माह भर में लखपति बनने का दिया जा रहा लालच, बदले में ले रहे 12 हजार

-निजी कंपनी शहर के आउटर में गुप-चुप तरीके से चला रही प्रशिक्षण संस्था

By: Shiv Singh

Published: 29 Dec 2018, 09:54 PM IST

जांजगीर-चांपा. जांजगीर के आऊटर में इन दिनों एक ऐसी संस्था का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है जो बेरोजगारों को जैविक खेती एवं डेली नीड के उत्पाद बिक्री के लिए प्रशिक्षण दे रही है और बेरोजगारों को माह भर में लखपति बनने का सब्जबाग दिखा रही है। ऐसे कंपनी के झांसे में आकर हजारों बेरोजगार 10 से 12 हजार रुपए लुटा रहे हैं। ये बेरोजगार स्थानीय नहीं बल्कि रायगढ़, जशपुर, कोरिया, बलौदाबाजार सहित अन्य जिले के हैं। कंपनी के जिम्मेदार लोगों का कहना है कि बेरोजगारों से किसी तरह की फीस नहीं ली जा रही है बल्कि उन्हें उत्पाद के सामान दिया जा रहा है और उन्हें प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कंपनी के लोक लुभावन आफर के चंगुल में फंसकर सैकड़ों बेरोजगार इन दिनों प्रशिक्षण के लिए पहुंच रहे हैं।

जिला मुख्यालय के केरा रोड में सुबह साढ़े छह बजे से ऐसे युवाओं का काफिला दिखाई देता है जो स्थानीय स्तर के नहीं बल्कि दूर दराज के जिले से आकर यहां रहते हैं और केरा रोड के मंडी प्रांगण स्थित एक खाली पड़े गोदाम में एक कंपनी के प्रशिक्षण में शामिल होते हैं। बताया जा रहा है कि हजारों बेरोजगार युवक ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में उत्पाद की बिक्री के लिए चेन सिस्टम से युवाओं को जोडऩे का काम करती है। युवाओं से 10 से 12 हजार रुपए फीस लेकर एक उत्पाद की जानकारी दी जाती है। प्रशिक्षण में हजारों की संख्या में दीगर जिले के बेरोजगार युवा शामिल होते हैं। दिलचस्प बात यह है कि यह प्रशिक्षण सुबह सात से आठ बजे तक संचालित किया जाता है। हजारों लोग केरा रोड के मकानों में किराए के रूप में रहते हैं और सुबह प्रशिक्षण लेते हैं।

 

माह भर में लखपति बनने का दिया जा रहा लालच, बदले में ले रहे 12 हजार

इस तरह दिया जा रहा झांसा
कंपनी के प्रशिक्षकों द्वारा बेरोजगार युवकों को प्रशिक्षण देते हुए यह कहा जा रहा है कि वे कंपनी के उत्पाद को जितना भी प्रसारित करेंगे उन्हें उतना कमीशन मिलेगा। यानी युवा महीने भर में लखपति भी बन सकता है। क्योंकि वह पहले तो चेन सिस्टम से कंपनी में युवाओं को जोड़ेगा तो कमीशन मिलेगा। इसके बाद उत्पाद बिक्री में उसे लाखों की आय मिलेगी। ऐसे में युवाओं को प्रशिक्षण देकर जोश भरा जा रहा है और अधिक से अधिक युवाओं को जोड़ा जा रहा है। वर्तमान में जिला मुख्यालय के इस प्रशिक्षण केंद्र में दो हजार युवक शामिल हैं।
कहीं चिटफंड कंपनी तो नहीं...
जिले में चार साल पहले दर्जनों चिटफंड कंपनी ने करोड़ो का कारोबार कर चलते बनी थी। बाद में लोगों को जानकारी होती गई और लोग कंपनी से रकम वापस पाने दर-दर भटकते रहे। आखिरकार उनका करोड़ो रुपए डूब गया। आखिरकार दर्जनों चिटफंड कंपनी के खिलाफ चारसौबीसी के तहत एफआईआर दर्ज की गई। शहर के लोग कुछ इसी तरह की शिकायत मानकर इसकी सूचना पुलिस को दी है। पुलिस ने इस संबंध में जांच करने की बात कही है।

 

माह भर में लखपति बनने का दिया जा रहा लालच, बदले में ले रहे 12 हजार

कंपनी अपने उत्पाद की बिक्री के लिए युवकों को प्रशिक्षण दे रही है। कंपनी के द्वारा किसी तरह का फर्जीवाड़ा नहीं किया जा रहा है। उत्पाद की बिक्री के लिए जो जितना मेहनत करेगा उसे उतना लाभ होगा यही बात बताई जा रही है- वीरेंद्र भोई, इंचार्ज ग्लेज ट्रेडिंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड

हमें इस तरह की शिकायत पहले भी मिल चुकी है। मामले की जांच कराएंगे, यदि रुपए पैसे का लेन-देन होगा तो कंपनी के खिलाफ निश्चित ही कार्रवाई की जाएगी- विवेक पांडेय, टीआई कोतवाली

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned