झुंझुनूं से जयपुर व दिल्ली तक बिजली से दौड़ेगी रेल

विद्युत के पोल लगाने का काम नवम्बर-दिसम्बर तक पूरा हो जाएगा। बिजली की रेल चलने से रेल की गति भी बढ़ेगी तथा प्रदूषण भी कम होगा। यात्री पहले से कम समय में जयपुर व दिल्ली पहुंचेगे। डीजल की बचत होगी। अभी सभी ट्रेन डीजल से चल रही है।

By: Rajesh

Published: 19 Jul 2021, 06:00 PM IST

#electric train in jhunjhunu
झुंझुनूं. चूरू जिले के बाद अब झुंझुनूं व सीकर में भी जल्द ही बिजली की रेल दौड़ेगी। बिजली की रेल चलाने के लिए रेलवे विभाग की ओर से तेजी से कार्य किया जा रहा है। चूरू जिले में पहले से ही बिजली की टे्रन का संचालन हो रहा है। चूरू से जोधपुर सहित अन्य स्टेशन के लिए बिजली की रेल का संचालन हो रहा है। वहीं सीकर-लोहारू टे्रक पर बिजली से रेल का संचालन करने के लिए बिजली के पोल लगाए जा रहे हैं। नवलगढ़ तक टे्रन के संचालन के लिए बिजली के पोल लग चुके हंै। वहीं सूरजगढ़ तक फाउंडेशन का कार्य हो चुका है। जिनमे जल्द ही पोल लगाए जाएंगे। विद्युत के पोल लगाने का काम नवम्बर-दिसम्बर तक पूरा हो जाएगा। बिजली की रेल चलने से रेल की गति भी बढ़ेगी तथा प्रदूषण भी कम होगा। यात्री पहले से कम समय में जयपुर व दिल्ली पहुंचेगे। डीजल की बचत होगी। अभी सभी ट्रेन डीजल से चल रही है।


कोरोना के कारण प्रभावित हुआ कार्य
जानकारी के अनुसार बिजली के पोल लगाने का काम जून महीने तक पूरा होना था। लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के कारण काम गति नहीं पकड़ पाया। बिजली के पोल लगाने आदि के लिए होने वाली वैल्डिंग में ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। कोरोना के चलते ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं हो पाई, जिसके कारण काम गति नहीं पकड़ पाया। अब कोरोना की दूसरी लहर खत्म होने के बाद बिजली के पोल लगाने सहित अन्य कार्य ने गति पकड़ी है। जानकारी के अनुसार नवम्बर-दिसम्बर तक काम पूरा हो जाएगा।

नवलगढ़ तक काम हुआ पूरा
बिजली के पोल लगाने का काम तेज गति से चल रहा है। जिले में नवलगढ़ रेलवे स्टेशन से झुंझुनूं की तरफ करीब दो किलोमीटर तक बिजली के पोल लगाए जा चुके हैं। वहीं बिजली के पोल लगाने के लिए फाउंडेशन आदि का काम सूरजगढ़ तक हो चुका है। एक किलोमीटर में करीब 20 बिजली के पोल लगाए जाते हैं।
रेलवे की ओर से बिजली की टे्रन चलाने के लिए रींगस से सीकर के बीच लगभग काम पूरा हो चुका है। उक्त ट्रेक पर वायरिंग आदि का काम पूरा हो चुका है। उक्त टे्रक पर एक महीने में सीआरएस हो सकता है। सीकर-लोहारू टै्रक पर बिजली का काम पूरा होने के बाद उस पर टे्रन संचालन के लिए सीआरएस होगा। सीआरएस मार्च में होने की संभावना है। सीआरएस रिपोर्ट आने के बाद उक्त टे्रक पर बिजली का संचालन शुरू हो जाएगा।

#electric train in jhunjhunu
अभी यह ट्रेन चल रही

ये टे्रन चल रही है झुंझुनूं से

वर्तमान में झुंझुनंू में 10 टे्रनों का संचालन हो रहा है।
गाड़ी संख्या समय कहां के लिए वार

09728 2.53 सीकर प्रतिदिन
04021 3.25 जयपुर बुध/शुक्र/रवि

09807 7.59 जयपुर सोम/बुध/गुरु/शनि
09703 8.58 लोहारू प्रतिदिन

04812 11.34 सीकर बुध/शुक्र
04811 15.44 दिल्ली बुध/शुक्र

09704 18.33 सीकर प्रतिदिन
09808 20.58 कोटा सोम/बुध/गुरु/शनि

09727 21.48 रेवाड़ी प्रतिदिन
04022 23.43 दिल्ली रवि/बुध/शुक्र

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned