जॉब इंटरव्यू में रखें इन बातों का ध्यान तो नई नौकरी में मिलेगी मनचाही सैलेरी

जॉब इंटरव्यू में रखें इन बातों का ध्यान तो नई नौकरी में मिलेगी मनचाही सैलेरी

Sunil Sharma | Publish: Sep, 07 2018 10:00:56 AM (IST) जॉब्स

सैलेरी क्लास व्यक्ति यदि बेहतर काम के लिए सैलेरी में बढ़ोतरी चाहते हैं तो इसके लिए वे पुरानी नौकरी से जुड़े तथ्यों को पीछे छोड़ें और नई नौकरी में नई तरह से शुरुआत करें।

जॉब के दौरान सभी के लिए काम के साथ-साथ जरूरी होता है समय-समय पर सैलेरी पाना और इसका बढऩा। यदि सैलेरी में बढ़ोतरी न हो तो आर्थिक रूप से तो व्यक्ति परेशान होता ही है, लेकिन मानसिक स्तर की समस्या उसके काम को भी प्रभावित करने लगती है। ऐसे में आवश्यकता होती है कुछ टिप्स अपनाने की जो इस परेशानी को हल करने में मददगार साबित होंगी।

पुरानी नौकरी छोड़ें
सैलेरी क्लास व्यक्ति यदि बेहतर काम के लिए सैलेरी में बढ़ोतरी चाहते हैं तो इसके लिए वे पुरानी नौकरी से जुड़े तथ्यों को पीछे छोड़ें और नई नौकरी में नई तरह से शुरुआत करें। जिस भी संस्थान या ऑफिस में आप काम कर रहे हैं और यदि आपको लगे कि वहां सैलेरी बढऩे की संभावनाएं कुछ सालों तक के लिए कोई नहीं हैं तो आप नौकरी बदल भी सकते हैं। इससे आपमें सैलेरी से जुड़ा तनाव कम होगा, साथ ही सकारात्मक सोच से आप पहले से ज्यादा सैलेरी पाने की उम्मीद रख सकते हैं।

समझदारी दिखाएं
जॉब की तलाश में जहां भी आप जाते हैं वहां सभी टैस्ट और इंटरव्यू के बाद आखिरी चरण सैलेरी के बारे में जानने का होता है। इस दौरान इसका ध्यान जरूर रखें कि वे बिना भावुक हुए सैलेरी डिस्कस करे। साथ ही इंटरव्यू लेने वाले को अहसास ना होने दें कि आप कुछ ज्यादा ही पर्सनल हो रहे हैं वर्ना आपकी काबिलियत जाने बिना ही आपको जरूरतमंद समझेगा। इंटरव्यू में अपने कौशल और टैलेंट को सामने रखें ताकि वह सैलेरी तय करने के लिए इन्हें आधार बनाएं।

विकल्प बनाएं
नौकरी के लिए या नौकरी करने के दौरान सैलेरी एक ऐसा मुद्दा होता है जिसपर कर्मचारी से लेकर ऑफिसर तक जॉब छोडऩे का भी प्रयास करने लगते हैं। इसलिए अभ्यर्थी के लिए जरूरी है कि वह जहां भी काम कर रहा है वहां यदि कम सैलेरी है तो किसी अन्य जॉब की तलाश करता रहे। ऐसे में आपके सामने कुछेक विकल्प बने रहेंगे और उचित समय पर आप जॉब बदल भी सकते हैं। इस तरह से जॉब बदलना आपमें सैलेरी से जुड़े तनाव को तो कम करेगा ही साथ ही नए संस्थान में कुछ नया सीखने में भी मदद करेगा।

परफॉर्मेंस बेस्ड बोनस
अक्सर साक्षात्कार के दौरान अभ्यर्थी को कुछ ऐसी बातों का सामना करना पड़ता जब कंपनी का एम्प्लॉयर आपको यह कहकर सैलेरी कम देता है कि ‘हम आपको इतना ही दे सकते हैं।’ ऐसे में चाहें आप कितने ही टैलेंटेड क्यों न हो लेकिन जरूरत के चलते आपको हां बोलनी ही पड़ जाती है। इसलिए ऐसी गलती न करें, यदि ऐसा प्रपोजल कोई एम्प्लॉयर आपके सामने रखता भी है तो आप उससे सैलेरी के लिहाज से परफॉर्मेंस बेस्ड बोनस की बात कर सकते हैं। इस स्थिति में नियोक्ता से किसी टारगेट आधारित प्रोजेक्ट की बात भी कर सकते हैं। उसके पूरे होने पर सैलेरी बढ़ाने की शर्त भी रख सकते हैं।

खुश रहें
कहा जाता है कि हल्की मुस्कुराहट व्यक्ति में आत्मविश्वास होने का प्रमाण है। इसलिए कहीं भी नौकरी के लिए जाएं तो साक्षात्कार या किसी भी चरण में चेहरे पर हल्की मुस्कुराते अवश्य रखें। इससे हो सकता है कि सामने वाला भी आपको देखकर खुश हो जाए और सैलेरी बढ़ा दे। सैलेरी की बात करते समय भी असमंजस की स्थिति न बनने दें और हमेशा खुश रहें।

Ad Block is Banned