scriptBlind murder : युवती से बातचीत के संदेह में की थी एएसआइ की हत्या, दो गिरफ्तार | Patrika News
जोधपुर

Blind murder : युवती से बातचीत के संदेह में की थी एएसआइ की हत्या, दो गिरफ्तार

– सरकारी पिस्तौल, रुपए व अन्य सामग्री बरामद करने के प्रयास

जोधपुरJun 15, 2024 / 11:52 pm

Vikas Choudhary

blind murder of ASI

चामू थाना​ पुलिस की गिरफ्त में हत्या के आरोपी।

जोधपुर.

जोधपुर ग्रामीण की चामू थाना पुलिस ने सुखमण्डला में लावारिस कार में गुजरात पुलिस के एएसआइ की हत्या कर शव नहर में फेंकने संबंधी ब्लाइण्ड मर्डर का खुलासा कर शनिवार को दो युवकों को गिरफ्तार किया। पुलिस का कहना है कि एक युवती से बातचीत व अवैध संबंध के संदेह में एसआइ की हत्या की गई थी।
पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) धर्मेन्द्रसिंह यादव ने बताया कि गत 9 जून को सुखमण्डला में नहर के पास झाडि़यों में एक कार लावारिस हालत में मिली थी। जांच करने पर अंदर खून के निशान मिले थे। कार मालिक का पता नहीं लग पाया था। कपड़ों के बैग व दस्तावेज से कार मालिक की पहचान मूलत: बाप थानान्तर्गत टेपू गांव हाल गुजरात के कच्छ में भुज निवासी चतुरसिंह (48) पुत्र भंवरसिंह भाटी के रूप में की गई थी। जो गुजरात पुलिस में एएसआइ था। उसका मोबाइल बंद था। इस बीच, 10 जून को गगाड़ीपम्पिंग स्टेशन के पास नहर में उसका शव मिला था।
मृतक के भाई करणसिंह ने 11 जून को अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या कर शव नहर में फेंकने का मामला दर्ज कराया था। बोर्ड से पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंपा गया था।
ब्लाण्ड मर्डर के चलते एएसपी भोपालसिंह लखावत व जयदेव सिहाग के निर्देशन में वृत्ताधिकारी कैलाश कंवर व थानाधिकारी ओमप्रकाश ने जांच शुरू की। कुछ लोगों पर संदेह हुआ। संदिग्धों से पूछताछ की गई तो हत्या का खुलासा हुआ। जैसलमेर जिले के सांगड़थानान्तर्गतमेहराजोत गांव निवासी भोमसिंह (26) पुत्र जब्बरसिंह राजपूत और चामू थानान्तर्गत ठाडिया गांव निवासी दुर्गसिंह (24) पुत्र रामसिंह को गिरफ्तार किया गया। वारदात में शामिल अन्य लोगों के संबंध में जांच की जा रही है। मृतक की सरकारी पिस्तौल, दस्तावेज व रुपए बरामद करने की कोशिश की जा रही है। कार्रवाई में कांस्टेबल खींयाराम की प्रमुख भूमिका रही है।

नानी का निधन होने पर आया था ननिहाल

मृतक चतुरसिंह गुजरात के भुज में एएसआइ था। पिछले दिनों नानी का निधन हो गया था। तब वो ननिहाल ठाडिया आया था। 7 जून को 12वें का उठावणा था। घरवाले गांव लौट गए थे। एएसआइ चतुरसिंह ने काम-काज निपटाकर 1-2 दिन बाद आने का बताया था। भाई करनसिंह ने 9 जून की दोपहर उसे फोन लगाया था, लेकिन स्विच ऑफ था। उसने मामा से बात की तो पता लगा कि चतुरसिंह सुबह आठ बजे गांव निकल गया था। कार और फिर नहर में शव मिलने से संदेह हुआ। मृतक के शरीर पर चोटों के निशान थे। कार में भी खून मिला था।

लूट के लिए हत्या दिखाने को पिस्तौल व सामान गायब किए

एएसपी भोपालसिंह लखावत का कहना है कि कार में मृतक का सामान गायब था। सरकारी पिस्तौल, मोबाइल व अन्य सामान नहीं मिला था। आरोपियों ने कार में हत्या करने के बाद शव नहर में फेंका था। सामान गायब कर दिया था। ताकि यह पता लगे कि किसी ने लूट के लिए हत्या कर शव नहर में फेंका होगा।

Hindi News/ Jodhpur / Blind murder : युवती से बातचीत के संदेह में की थी एएसआइ की हत्या, दो गिरफ्तार

ट्रेंडिंग वीडियो