27 लाख रुपए की 7654 टन बजरी का अवैध खनन

- एसआइटी व खनिज विभाग के सर्वे में सालोड़ी गांव की खातेदारी जमीनों पर अवैध खनन
- पांच नामजद लोगों पर अवैध खनन व चोरी के दो मामले दर्ज

By: Vikas Choudhary

Published: 21 Aug 2021, 12:45 AM IST

जोधपुर.
बजरी माफियाओं के खिलाफ आखिरकार खनिज विभाग कुछ सक्रिय हुआ। अवैध खनन की रोकथाम के लिए गठित एसआइटी व खनिज विभाग के सर्वे में सालोड़ी गांव की खातेदार जमीन पर 27.39 लाख रुपए की 7654 टन बजरी का अवैध खनन सामने आया। राजीव गांधी नगर थाने में पांच खातेदारों के खिलाफ दो एफआइआर दर्ज कराई गई। यह खनन विभाग की अनुमति के बगैर किया गया था।

पुलिस के अनुसार खनिज विभाग के सर्वेयर खरताराम पुत्र खीमाराम मेघवाल की ओर से सालोड़ी गांव में खातेदारी भूमि के खातेदार कालूराम, बाबूलाल व नैनाराम के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। अवैध खनन रोकने के लिए गठित एसआइटी ने गत 18 अगस्त को सालोड़ी गांव में नदी का निरीक्षण किया था। नदी क्षेत्र में खनन बंद था, लेकिन कुछ दूरी पर खातेदारी भूमि में बजरी का अवैध खनन मिला। पटवारी से तस्दीक में जमीन कालूराम, बाबूलाल, नैनाराम व अन्य के नाम खातेदारी की होने की पुष्टि हुई। इस भूमि पर दो सौ वर्ग मीटर में 3150 टन बजरी का अवैध खनन किया गया था। जिसकी लागत 11,22,500 रुपए आंकी गई।
2860 वर्ग मीटर में 45 सौ टन बजरी का खनन

खनिज विभाग के सर्वेयर, पटवारी और पुलिस ने सालोड़ी गांव में नदी का निरीक्षण किया। नदी क्षेत्र में खनन नहीं हो रहा था, लेकिन पास ही खातेदारी जमीन में अवैध खनन पाया गया। पटवारी ने खातेदारी जमीन में अवैध खनन की तस्दीक की। 1360 वर्ग मीटर में .7 मीटर गहराई तक बजरी का अवैध खनन किया गया था। विभाग ने 7,69,700 रुपए की 2142 टन और एक अन्य खातेदारी जमीन में 1500 वर्ग मीटर में 8,46,875 रुपए की 2362 टन बजरी का अवैध खनन पाया गया।

Vikas Choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned