कार से दुर्घटना करने का आरोप लगाकर वसूली करने वाली गैंग सक्रिय

लोगो-पत्रिका अलर्ट

-टूटी-फूटी मोपेड व चोट दिखाकर करते हैं कार मालिकों से अवैध वसूली
- तीन युवकों ने चिकित्सक को घेरने का प्रयास किया तो उन्होंने एक को पकड़कर पुलिस को सौंपा

By: Vikas Choudhary

Updated: 21 Aug 2021, 12:59 AM IST

जोधपुर.
टूटी-फूटी और क्षतिग्रस्त मोपेड लेकर हाथ-पांव से जख्मी युवक यदि किसी की कार रोककर टक्कर मारने का आरोप लगाते हैं तो कृपया करके सावधान हो जाएं, क्योंकि जोधपुर शहर में ऐसा गिरोह सक्रिय है जो कार से टक्कर मारने का मनगढ़ंत आरोप लगाकर रुपए ऐंठ रहे हैं। यह गिरोह खासकर डॉक्टरों को निशाना बना रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में यह गिरोह उम्मेद अस्पताल और एक निजी अस्पताल के एक दर्जन से अधिक चिकित्सकों से रुपए वसूल चुका है। उम्मेद अस्पताल के एक चिकित्सक ने ऐसे ही गिरोह के एक युवक को पकड़कर पुलिस को सौंपा।

मुझे गड़बड़ी का अंदेशा था तो सावचेत हो गया
उम्मेद अस्पताल के एक डॉक्टर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वो गुरुवार सुबह कार से उम्मेद अस्पताल आए। कार पार्र्किंग में खड़ी करने लगे। इतने में मोपेड पर तीन जने वहां आए। लापरवाही से कार चलाकर मोपेड को टक्कर मारने और उससे तीनों युवकों के जख्मी होने का आरोप लगाने लगे। मोपेड काफी पुरानी व लाइटें टूटी हुई थी। उस पर कई खरोंचें आईं हुई थी। जबकि डॉक्टर की कार से रास्ते में किसी भी मोपेड को टक्कर नहीं लगी थी। तीनों में से एक किन्नर जैसा नजर आ रहा था। तीनों जने दुर्घटना में चोटिल कर भागने का आरोप लगाकर रुपए ऐंठने की कोशिश करने लगे। डॉक्टर को तीनों पर अंदेशा हो गया। उन्होंने दबाव में आने की बजाय अस्पताल परिसर में घुसने को लेकर फटकारा। लोगों से रुपए वसूलने के लिए जमकर लताड़ लगाई। पहले तो वह चिल्लाने लगा, लेकिन फिर वह मोपेड स्टार्ट कर भागने लगा। डॉक्टर ने एक जने को पकड़ लिया तो वह गिड़गिड़ाने लगा और आगे से ऐसा न करने पर छोडऩे की विनती करने लगा। डॉक्टर ने उसे अस्पताल चौकी में सुपुर्द किया।

एक दर्जन से अधिक चिकित्सकों से रुपए ऐंठे
डॉक्टर ने अपने साथ घटित वाकये के बारे में अस्पताल और साथी चिकित्सकों को अवगत कराया। उन्हें ऐसे गिरोह से सावधान रहने का आग्रह किया। तब पता लगा कि उम्मेद अस्पताल में छह-सात और पाल रोड पर निजी अस्पताल के चार-पांच चिकित्सक के साथ ऐसी घटना हो चुकी है। गिरोह के दबाव में आकर कई चिकित्सकों से रुपए भी दे दिए थे।

--------------------
डॉक्टर ने शिकायत नहीं की, नजर रख रहे हैं

खाण्डा फलसा थानाधिकारी दिनेश लखावत का कहना है कि उम्मेद अस्पताल के एक डॉक्टर ने युवक को पकड़ा था। वह पांव से लंगड़ा था। चिकित्सक ने कोई लिखित शिकायत नहीं दी। उस युवक व साथियों पर नजर रखी जा रही है। अस्पताल में संदिग्ध युवकों के प्रवेश को लेकर भी सख्ती के निर्देश दिए गए हैं।

Vikas Choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned