Corona news: कानपुर आईआईटी विशेषज्ञों का शोध, पहले से ज्यादा इस बार कोरोना होगा घातक, दी सलाह

कोरोना संक्रमण की स्थितियों को देखते हुये शासन ने लेवल टू और लेवल थ्री के अस्पताल दोबारा शुरू करने के निर्देश दिये हैं।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 01 Apr 2021, 01:20 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. पिछले वर्ष कोरोना संक्रमण (Corona Sankraman) को लेकर शारीरिक दूरी (Social Distance), मास्क (Masque) एवं सेनेटाइजर के प्रयोग करने से लोगों को राहत मिली। मगर इस वर्ष फरवरी के बाद कोरोना (Corona Virus) संक्रमण ने फिर तेजी से पैर पसारने शुरू कर दिए। इससे कहीं न कहीं लोगों की लापरवाही सामने आ रही है। हालात ऐसे हैं कि दिनों दिन कोरोना केसों की संख्या बढ़ रही है। जबकि पुलिस, प्रशासन सहित स्वास्थ्य विभाग लगातार लोगों को सतर्क रहने के साथ ही बिना किसी आवश्यक कार्य के भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से टोक रहे हैं। लेकिन लोग अपनी मनमानी से बाज नहीं रहे हैं। जिसके परिणाम घातक हो सकते हैं।

हालांकि इससे बचाव के लिए शासन ने लेवल टू और थ्री के हॉस्पिटल को पुनः चालू करने के लिए निर्देशित किया है। इसकी भयावहता का आकलन आइआइटी के विशेषज्ञों ने किया है। उनकी रिपोर्ट के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर पहली से ज्यादा तेज हो सकती है। यह अनुमान उन्होंने पिछले वर्ष और मौजूदा केसों में वृद्धि के दर को देखते हुए लगाया है। आइआइटी के फिजिक्स के प्रो. महेंद्र कुमार वर्मा, एयरो स्पेस इंजीनियरिंग के असि. प्रो. राजेश रंजन और पुरातन छात्र आर्यन शर्मा ने शोध किया है। उनके रिसर्च को संस्थान ने अपने ट्विटर अकाउंट में साझा किया है। उनकी रिपोर्ट के मुताबिक अक्टूबर 2020 से फरवरी 2021 तक संक्रमण के दर में गिरावट हुई। 27 मार्च 2021 को केसों के बढऩे की दर मई 2020 के बराबर थी। विशेषज्ञों ने शारीरिक दूरी का पालन न करने पर अगले तीन से चार महीने में एक्टिव केसों की संख्या काफी बढऩे की आंशका जताई है। महाराष्ट्र के बाद पंजाब, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश में संक्रमण फैल सकता है।

महाराष्ट्र (Maharashtra) एवं गुजरात (Gujrat) से यहां कोरोना वायरस रूप बदल कर आया है। इस वजह से घातक अधिक है। कोरोना संक्रमित कोविड हॉस्पिटल (Covid Hospital) में भर्ती होने के दो-तीन दिन में दम तोड़ रहे हैं। वायरस के रूप का पता लगाने के लिए मेडिकल कॉलेज की कोविड लैब से लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) की इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) की लैब में नमूने भेजे गए हैं। उप प्राचार्य एवं मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रो. रिचा गिरि का कहना है कि कोरोना वायरस में लगातार म्यूटेशन हो रहा है। अब यह और भी घातक हो गया है। मेडिलक कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. विकास मिश्रा का कहना है कि वायरस के रूप का पता लगाने के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए नमूने भेजे गए हैं। उनकी रिपोर्ट अभी केजीएमयू से नहीं आई है। उसकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

Corona virus
Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned