रामनाथ कोविंद का काफिला निकलने के दौरान ट्रैफिक जाम में फंसी महिला की मौत, राष्ट्रपति को पता चला तो अब हुआ ये एक्शन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को जब इस घटना के बारे में पता चला तो उन्होंने अपना गहरा दुख जाहिर किया। उन्होंने तत्काल कानपुर डीएम और पुलिस कमिश्नर को निर्देश दिया कि वे मृतक के परिजनों से जाकर मिलें।

कानपुर. इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (INDIAN INDUSTRIES ASSOCIATION) कानपुर चैप्टर की महिला विंग की अध्यक्ष वंदना मिश्रा (Vandana Mishra) का जाम में फंसकर निधन हो गया। वह 50 वर्ष की थीं। वहीं परिजनों ने आरोप लगाया है कि जाम के समय उन्होंने मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों से पूरी स्थिति से अवगत कराया था, लेकिन उन पुलिसकर्मियों ने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) का काफिला गुजरने वाला है, इसलिए हम ट्रैफिक नहीं खोल सकते। वहीं जब अब इस मामले में कार्रवाई करते हुए चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही इस पूरे मामले की जांच एडिशनल डीसीपी साउथ को सौंपी गई है।

राष्ट्रपति के दौरे के दौरान रोका गया था ट्रैफिक

दरअसल राष्ट्रपति के कानपुर दौरे के दौरान गोविंदपुरी पुल पर ट्रैफिक रोका गया था। जिसमें में कानपुर के किदवई नगर के ब्लॉक निवासी वंदना मिश्रा (Vandana Mishra) करीब 45 मिनट तक फंसी रहीं। जिसके चलते वह समय से अस्पताल नहीं पहुंच सकीं और उनकी मौत हो गई। वहीं जब इसका खुलासा हुआ तो अब मामले में कार्रवाई करते हुए ज्यादा समय तक ट्रैफिक रोकने पर एसआई सुशील कुमार और तीन मुख्य आरक्षियों को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही इस पूरे मामले की जांच एडिशनल डीसीपी साउथ को सौंपी गई है।

राष्ट्रपति ने जताया गहरा दुख

वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) को जब इस घटना के बारे में पता चला तो उन्होंने अपना गहरा दुख जाहिर किया। उन्होंने तत्काल कानपुर डीएम और पुलिस कमिश्नर को निर्देश दिया कि वे मृतक के परिजनों से जाकर मिलें। जिसके बाद कानपुर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने ट्वीट कर महिला के परिवार से माफी मांगी। उसके बाद असीम अरुण और कानपुर जिलाधिकारी आलोक तिवारी मृतका वंदना मिश्रा के घर पहुंचे और उनके पति शरद मिश्रा से मुलाकात कर राष्ट्रपति का संदेश दिया। साथ ही हर संभव मदद का भी आश्वासन दिया।

महिला उद्यमिता को दिया था बढ़ावा

आपको बता दें कि कानपुर में महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने में वंदना मिश्रा का विशेष योगदान रहा है। वे करीब सात साल तक भारतीय महिला उद्यमी परिषद की महामंत्री भी रही थीं और करीब डेढ़ महीने पहले वह कोरोना संक्रमित भी हुई थीं।

यह भी पढ़ें: यूपी के धर्मांतरण केस की जांच करेगी NIA; पीतांबर धारण कर कथावाचक बने बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned