पत्र लिखकर घर से लापता हुए मासूम भाई-बहन, मार्मिक पत्र देख सभी रह गए हैरान, लिखा...अब मम्मी से लड़ाई मत करना पापा प्लीज

-दंपति के आए दिन झगड़े को लेकर बेटा और बेटी ने छोड़ा घर
-भाई बहन ने माता-पिता के लिए पत्र लिखकर छोड़ा

By: Arvind Kumar Verma

Published: 20 Sep 2021, 02:04 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. आर्थिक तंगी के चलते दंपति में आए दिन विवाद को लेकर दंपति के पुत्र व पुत्री घर छोड़कर चले गए। मामला कानपुर देहात के कहिंजरी निवासी लालाराम के परिवार का है, जो गुजरात में नौकरी छूटने के बाद वर्तमान के मकड़ीखेड़ा में किराए पर रहते हैं। बच्चों का लिखा हुआ पत्र मिलने पर लोगों को जानकारी हुई। रविवार को ऐसा पत्र लिखकर भाई बहन दोनो घर छोड़कर कहीं चले गए। पत्र पढ़कर परिजनों के होश उड़ गए। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। इसके बाद दोनो की फोटो को सोशल मीडिया पर वायरल कर तलाश शुरू की गई। हालांकि परिजन भी रिश्तेदारों और मित्रों से जानकारी कर रहे हैं।

आर्थिक तंगी से दंपति में होता था विवाद

बताया कि लालाराम गुजरात में एक कोल्डस्टोरेज में नौकरी करते थे। तीन महीने पहले नौकरी छूटने के बाद कल्याणपुर के मकखड़ीखेड़ा में आकर किराये पर रहने लगे। घर के खर्चों को लेकर आए दिन पत्नी सावित्री से झगड़ा होने लगा। इससे परेशान होकर कक्षा 9 में पढ़ने वाली उनकी बेटी प्रिय और 7 कक्षा में पढ़ने वाला बेटा नैतिक घर छोड़कर चले गए। विश्वविद्यालय चौकी इंचार्ज इंदु यादव ने बताया कि रविवार दोपहर दोनों बच्चे घर से मंदिर जाने की बात बोलकर निकले थे। काफी देर तक न लौटने पर माता-पिता ने उनकी तलाश शुरू की। शाम को बच्चों द्वारा लिखा गया पत्र माता-पिता के हाथ लगा।

बच्चों ने लिखा कुछ यूं मार्मिक पत्र

पत्र में बच्चों ने उनके झगड़े से तंग आकर घर छोड़ने की बात लिखी है। बच्चों ने लिखा कि ‘हम दोनों आप लोगों से बहुत प्यार करते हैं। हम आप पर बोझ नहीं बनना चाहते हैं। अब आप लोगों के ऊपर हमारी जिम्मेदारी नहीं है। इसलिए आप दोनों अपने पेट के लिए कोई न कोई काम कर सकते हैं। पापा! आप से एक ही विनती है कि अब मम्मी से मत लड़ना। हां..अब हमे तलाश करने से कोई फायदा नहीं है। यहां से जाने के बाद हमारी अच्छे से पढ़ाई लिखाई हो जाएगी। हमें माफ कर देना। थाना प्रभारी वीरसिंह ने बताया कि अनाथ आश्रम, बस अड्डा से लेकर सेंट्रल स्टेशन तक में बच्चों की तलाश की जा रही है, प्रयास जारी है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned