scriptmaheshwar tourist places religion ,art, culture, tourism and bollywood | 2500 साल से यहां है धर्म, कला और संस्कृति का संगम, पर्यटकों से लेकर बॉलीवुड तक सभी की है पसंद | Patrika News

2500 साल से यहां है धर्म, कला और संस्कृति का संगम, पर्यटकों से लेकर बॉलीवुड तक सभी की है पसंद

इतिहासः कभी इसका नाम महिष्मति भी था...। देशभर से लोग पर्यटन के लिए महेश्वर आते हैं, बॉलीवुड की भी बन गया पसंद...>

खरगोन

Published: May 20, 2022 12:14:42 pm

महेश्वर शहर मध्य प्रदेश के खरगोन जिले में स्थित है। यह नगर नर्मदा नदी के उत्तरी तट पर स्थित है। यह शहर आजादी से पहले होलकर मराठा शासकों के इंदौर राज्य की राजधानी था। इस शहर का नाम महेश्वर भगवान शिव के नाम महेश के आधार पर पड़ा है अत: महेश्वर का शाब्दिक अर्थ है भगवान शिव का घर। अब यह बॉलीवुड की भी पसंद बन रहा है। पिछले कुछ सालों में यहां पर कई फिल्मों की शूटिंग हुई है।

maheshwar1.png

पौराणिक लेखों के अनुसार महेश्वर राजा सहस्त्रार्जुन, जिसने रावण को पराजित किया था उसकी राजधानी रहा है। ऋषि जमदग्नि को प्रताड़ित करने के कारण उनके पुत्र भगवान परशुराम ने सहस्त्रार्जुन का वध किया था। कालांतर में यह शहर होलकर वंश की महान महारानी देवी अहिल्या बाई होलकर की राजधानी भी रहा है। नर्मदा नदी के किनारे बसा यह शहर अपने बहुत ही सुंदर व भव्य घाट तथा महेश्वरी साड़ी के लिए भारत भर में प्रसिद्द है। घाट पर अत्यंत कलात्मक मंदिर हैं जिनमें राजराजेश्वर मंदिर प्रमुख है।

maheshwar2.jpg

इस शहर को महिष्मति नाम से भी जाना जाता है। महेश्वर का रामायण तथा महाभारत में भी उल्लेख मिलता है। देवी अहिल्या बाई होलकर (devi ahilya bai holkar) के कालखंड में बनाए गए यहां के घाट बहुत सुन्दर हैं और इनका प्रतिबिम्ब नर्मदा नदी के जल में बहुत ख़ूबसूरत दिखाई देता है। महेश्वर इंदौर से ही सबसे नजदीक है। अपने धार्मिक महत्व में यह शहर काशी के सामान भगवान शिव की नगरी है। मंदिरों और शिवालयों की निर्माण श्रंखला के लिए इसे गुप्त काशी कहा गया है। अपने पौराणिक महत्व में स्कंध पुराण, रेवा खंड तथा वायु पुराण आदि के नर्मदा रहस्य में इसका महिष्मति (mahishmati) नाम से उल्लेख मिलता है। महेश्वर के किले के अन्दर रानी अहिल्या बाई की राजगद्दी पर बैठी एक मनोहारी प्रतिमा रखी है।

पवित्र नगरी का दर्जा प्राप्त है महेश्वर को

इंदौर से 90 किलोमीटर की दूरी पर नर्मदा नदी के किनारे बसा यह ख़ूबसूरत पर्यटन स्थल मध्य प्रदेश शासन द्वारा पवित्र नगरी का दर्जा प्राप्त है। अपने आप में कला, धार्मिक, सांस्कृतिक एवं एतिहासिक महत्व समेटे यह शहर लगभग 2500 वर्ष पुराना है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Britain के पीएम बोरिस जॉनसन ने दिया इस्तीफा, जानें वो 'एक फैसला' जिससे गई कुर्सीपीएम नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय शैक्षिक समागम का किया उद्धाटन बोले नई शिक्षा नीति मातृभाषा में पढ़ाई के रास्ते खोल रहीलालू प्रसाद यादव की हालत नाजुक, तेजस्वी यादव बोले - '3 जगह फ्रैक्चर, दवा के ओवरडोज से तबीयत बेहद बिगड़ी'Karnataka: बागलकोट जिले के केरूर में हिंसा, चार घायल, तीन गिरफ्तारBhagwant Mann Marriage Live Updates: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को अरविंद केजरीवाल ने दी बधाईMaharashtra Cabinet: कैबिनेट विस्तार पर बीजेपी और शिंदे गुट में ऐसे बनी सहमति, जानें किसके के खाते में कौन-कौन से विभागVideo: पुलिस जीप में हंसता हुआ आराम से बैठा, हाथों से किए इशारे, सलमान का एक और वीडियो वायरलभारत ने श्रीलंका को तीसरे वनडे में 39 रन से हराया, 3-0 से क्लीन स्वीप कर रचा इतिहास
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.