केेवल झंडा बैनर की जब्ती, गंभीर शिकायतों पर नहीं हो रही कार्रवाई, अब तक इतनी शिकायतें

- आचार संहिता उल्लंघन के मामलों की शिकायतों की संख्या में बढोत्तरी

By: Shiv Singh

Published: 15 Nov 2018, 09:40 PM IST

कोरबा. सी-विजिल एप के माध्यम से ऑनलाइन हो या फिर पारंपरिक तौर पर की जाने वाली लिखित दोनों तरह की शिकायतों की संख्या में मतदान की तारीख करीब आते ही संख्या बढ़ गई है, लेकिन आचार संहिता उल्लंघन के मामलों में कार्यवाही झंडा और बैनर की जब्ती तक ही सीमित है। गंभीर शिकायतों पर अब तक कोई ठोस एक्शन नहीं लिया जा सका है।

ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन श्रेणी वाली गंभीर शिकायतों पर कार्रवाई नहीं की जा रही है जिससे प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान लग रहा है। आचार संहिता उल्लंघन के मामलों में कार्यवाही केवल झण्डा व बैनर के जब्ती तक सीमित होकर रह गई हैं। वह भी तब जब किसी के द्वारा इसकी शिकायत की जाती है। ऐसा एक भी प्रकरण नहीं है, जिसमें प्रशासन ने स्वत: संज्ञान लेकर कार्यवाही की हो।

Read More : किसी मशीन में आई खराबी तो आपात स्थिति से निपटने इतनी वीवीपैट व ईवीएम मशीनें रिजर्व

सोशल मीडिया पर नहीं है किसी का नियंत्रण
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को अब राजनैतिक दल प्रचार से ज्यादा विरोधियों के दुष्प्रचार के लिए इस्तेमाल के लिए कर रहे हैं। लेकिन प्रशासन की मानें तो किसी प्रत्याशी, उनकी घोषणाओं या फिर मेनीफेस्टो की आलोचना हो रही है तो यह आचार संहिता उल्लंघन की श्रेणी में नहीं आते। इसके लिए यदि किसी तरह के मीम्स (कार्टून) बनाकर सोशल मीडिया में प्रसारित किए जा रहे हैं, तब भी कोई परेशानी वाली बात नहीं है। इस तरह के कई मामलों में राजनैतिक दलों ने शिकायत भी दर्ज कराई है, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

इतनी शिकायतें अब तक
ऑफलाइन- 62
सी-विजिल- 56
सीएमएस- 04
अन्य- 08

-आचार संहिता उल्लंघन के मामलों की शिकायतों की संख्या में बढोत्तरी हुई है। कार्यवाही भी की गई है। कई शिकायतें फर्जी भी पाई गई है। सभी मामलों में नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है -देवेंद्र प्रधान, सहायक नोडल

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned