scriptChanakya Neeti About Fake Friend Wife And Servant | Chanakya Neeti: आपके ये तीन हितैषी भी बन सकते हैं मौत की वजह, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति | Patrika News

Chanakya Neeti: आपके ये तीन हितैषी भी बन सकते हैं मौत की वजह, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति

Chankya Neeti in Patrika: चाणक्य की नीतियां आमतौर पर जीवन के कुछ मोड़ पर अक्सर सच्चाइयों से रूबरू करती हैं। इसी क्रम में जानिए चाणक्य की पहली नीति।

लखनऊ

Updated: April 23, 2022 03:51:51 pm

चाणक्य द्वारा बताई गई चाणक्य नीतियों के माध्‍यम से जीवन की कुछ समस्‍याओं का समाधन मिल सकता है। चाणक्य की नीतियों पर चलकर सही व्यक्ति और उसके काम ईमान की पहचान भी की जा सकती है। पहले अध्याय में राजनीतिज्ञ चाणक्य ने दुष्‍ट लोगों की पहचान और जीवन में सुखी रहने के लिए कई बातों के साथ कई समस्याओं के हल भी बताए हैं। उन्‍होंने मुसीबत में घिरे इंसान को परेशानियों से निकलने के कई रास्‍तों से रूबरू कराया। आचार्य चाणक्य एक कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विश्व में जाने जाते हैं। उन्होंने कहा दुष्ट पत्नी, झूठे मित्र, बदमाश नौकर और सांप के साथ मौत जैसा होता है।
Chanakya Neeti About Fake Friend Wife And Servant
Chanakya Neeti About Fake Friend Wife And Servant
क्यों होता है इनके साथ रहना मृत्यु समान
चाणक्‍य नीति कहती है कि यदि पत्‍नी दुष्ट है, मित्र झूठा है, नौकर बदमाश है, तो व्‍यक्ति को इनके साथ नहीं रहना चाहिए। जैसे सांप के साथ रहना अक्सर खतरे का निशान होता है वैसे ही इन तीनों के साथ रहना मौत को बुलावा देना होता है।
यह भी पढ़ें

इंटरनेट और मोबाइल फोन के जमाने में हाथों से छूट गईं किताबें, जानिए पुस्तकालयों की क्या हो गई स्थिति

पत्नी की ईमादारी वाला पति सबसे अमीर

कहा गया है कि यदि कोई पति पत्नी की ईमानदारी जेब में रख कर घूमता हो तो उससे अमीर कोई नहीं होता है। वहीं, एक अच्छा मित्र वही है, जो इन हालात में हमारा साथ न छोड़े। आवश्यकता पड़ने पर, किसी दुर्घटना के समय, जब अकाल पड़ा हो, जब युद्ध चल रहा हो और श्मसान जाना पड़ा।
कहीं रहने से पहले जान ले ये नीति
चाणक्‍य नीति कहती है कि उस देश और स्थान में निवास नही करना जहां आपकी कोई इज्जत न हो। खासतौर पर उस स्थान पर तो बिल्कुल नहीं जहां आप रोजगार नहीं कमा सकते, जहां आपका कोई मित्र नहीं हो और जहां आप कोई ज्ञान अर्जित नहीं कर सकते।
यह भी पढ़ें

जानिए एक IAS को कितनी मिलती है सैलरी, सुविधाएं जानकर चौक जाएंगे आप

जीवन में पहले इनकी एकबार जरूर लें परीक्षा
चाणक्‍य नीति में सबसे पहले ही कहा गया है कि नौकर की परीक्षा तब करें जब वह कर्त्तव्य का पालन न कर रहा हो। विपरीत परिस्थितियों में मित्र की और पत्नी की परीक्षा तब करें जब आपका समय ठीक न हो। रिश्तेदार को तब आजमाएं, जब आप मुसीबत में हों।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाईअमृतसर से ISI के दो जासूस गिरफ्तार, पाकिस्तान भेजते थे भारतीय सेना से जुड़ी खुफिया जानकारीहरियाणा के झज्जर में फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 3 की मौत 11 घायलभाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक : आज जयपुर आएंगे राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, एयरपोर्ट से कूकस तक 75 स्वागत द्वार तैयारBharatpur Road Accident: भीषण सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत, मचा हाहाकारLPG Price Hike Today: घरेलू गैस की कीमत 3.50 रुपए बढ़े, कमर्शियल सिलेंडर पर 8 रुपए का इजाफाIPL के इतिहास में पहली बार होगा ऐसा, इन टीमों के बिना खेला जाएगा प्लेऑफपोर्नोग्राफी मामले में व्यवसायी राज कुंद्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला दर्ज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.