बिजली की बढ़ी दरों को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी

किसानों को उनकी उपज की दोगुना कीमत मिलने की बजाय उन्हें और घाटा पहुंचाया जा रहा है, तथा लागत बढ़ायी जा रही है ।

By: Ritesh Singh

Published: 05 Sep 2019, 04:22 PM IST

लखनऊ ,कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व राज्यमन्त्री Pramod Tiwari ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में बढ़ी हुई। बिजली की दर वर्तमान सरकार की बड़ी असफलता की कहानी बयान कर रही है, और सरकार बेशर्मी से कह रही है कि आज जो बिजली की दर बढ़ रही है वह समजावादी पार्टी एवं बहुजन समाजपार्टी की पिछली सरकार की नाकामियों का नतीजा है ।प्रमोद तिवारी ने कहा है कि प्रदेष सरकार के ढाई साल बीत जाने के बाद उसकी विफलताओं के कारण दोबारा बिजली का बिल बढ़या जा रहा है । क्या सरकार के लिये ढाई साल पर्याप्त नहीं है कि वह अपनी कुछ उपलब्धियां बता सके ? इसके बावजूद अपनी असफलताओं को छिपाने के लिये सरकार अपनी नाकामियों का ठीकरा पिछली सरकार पर फोड़ रही है ।सरकार द्वारा किसानों से वायदा किया गया था कि उन्हें उपज का ‘‘दोगुना दाम’’ दिया जायेगा । बिजली की दर बढ़ने से सिंचाई और मंड़ाई, जहाॅ बिजली का उपयोग होता है, की लागत बढ़ेगी, और किसानों को उनकी उपज की दोगुना कीमत मिलने की बजाय उन्हें और घाटा पहुंचाया जा रहा है, तथा लागत बढ़ायी जा रही है ।

सरकार के ‘‘पाप का फल’’

उन्होंने कहाकि ने कहा है कि इसी प्रकार से कुछ दिनों पूर्व उत्तर प्रदेष सरकार द्वारा पेट्रोल एवं डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी की गयी । जब दुनिया के बाजार में कच्चे तेल की कीमत कम हो रही है, और देश के दूसरे प्रदेशों में पेट्रोल एवं डीजल के दाम कम हो रहे हैं तो फिर यह किस सरकार के ‘‘पाप का फल’’ है जिसे जनता भुगत रही है जबकि पिछले 5 सालों से केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की भाजपा की सरकार है ।

निवेषक का विश्वास सरकार में खत्म

Pramod Tiwari ने कहा है कि सच्चाई तो यह है कि आर्थिक मन्दी और महंगाई की मार झेल रही प्रदेश की जनता को यह बोझ मौजूदा सरकार की नाकामियों के कारण भुगतना पड़ रहा है । एक तरफ बिजली की आपूर्ति कम की जा रही है और दूसरी तरफ दोबारा बिजली की दर व रेट बढ़ाये जा रहे हैं । जनहित में बिजली के बढ़े हुये दर को तत्काल वापस लिया जाना चाहिए सरकार की गलत नीतियों और नाकामियों ने देश को आर्थिक तबाही और बर्बादी के मुहाने पर लाकर खड़ा कर दिया है । वर्तमान सरकार की गलत नीतियों की वजह से (विकास दर) 5% पर पहुंच गयी है जबकि ‘‘मोदी सरकार’’ का वायदा ‘‘डबल डिजिट’’ में अर्थात 10 अंक के ऊपर विकास दर पहुंचाने का था । आज दुनिया का कोई भी देश भारत में पूंजी निवेश करने को तैयार नहीं है, क्योंकि नोटबन्दी ने देश की अर्थ व्यवस्था को तबाह कर दिया है, और निवेषक का विश्वास सरकार में खत्म हो गया है ।

वर्तमान सरकार की गलत नीति

Pramod Tiwari ने कहा है कि एक तरफ तो सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन और देश को 5 ट्रिलियन का सपना दिखाया जा रहा है, और दूसरी तरफ वास्तविकता यह है कि जो विरासत कांगे्रस सरकार ने इसे दिया था उसे भी खत्म कर दिया गया है । आज कृृषि विकास दर 2% से भी नीचे आ गयी है । और सकरार द्वारा इस बर्बादी का कारण पिछली सरकारों को बताया जा रहा है जबकि वर्तमान सरकार की गलत नीतियों और उसकी नाकामियों के कारण देश और प्रदेश के सामने ऐसी गम्भीर स्थिति पैदा हुई है, जिसका खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है ।

BJP
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned