scriptCountry first Digital Pink Village is in UP,Nagala Hareru is Cashless | देश का पहला डिजिटल पिंक विलेज यूपी में, नगला हरेरू है कैशलेस गांव | Patrika News

देश का पहला डिजिटल पिंक विलेज यूपी में, नगला हरेरू है कैशलेस गांव

उप्र में कुल 19 गांवों को डिजिटल गांव के लिए चुना गया था।

लखनऊ

Published: September 03, 2018 03:37:09 pm

लखनऊ. केंद्रीय वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी ने शनिवार को अमेठी के पिंडारा ठाकुर गांव को 'डिजिटल गांव' घोषित किया। इस गांव में केंद्र और राज्य सरकार के 206 से अधिक कार्यक्रम ऑनलाइन उपलब्ध होंगे। बैंकिंग से लेकर अन्य सुविधाएं डिजिटल होंगी। केंद्रीय मंत्री ने इसे बड़ी उपलब्धि बताया है। लेकिन इसके पहले उप्र में देश का पहला डिजिटल पिंक विलेज और देश का पहला स्वच्छ मिशन गांव घोषित हो चुका है। उप्र में कुल 19 गांवों को डिजिटल गांव के लिए चुना गया था। आइए जानते हैं कि आखिर डिजिटल विलेज, पिंक विलेज और स्वच्छता मिशन विलेज की क्या है खासियत। और इन गांवों को क्या मिलती हैं सहूलियतें।
सबरकांत देश का पहला डिजिटल गांव
दो साल पहले गुजरात के सबरकांत जिले का अकोदरा गांव देश का पहला डिजिटल गांव बना था। तब इस गांव की खूबियों की चर्चा पूरे देश में हुई थी। गांव की तस्वीर बदलने में यहां के ग्राम प्रधान की बड़ी भूमिका थी। सबरकांत गांव की 1,191 आबादी आज अपने सभी कार्यों के लिए कैशलेस सिस्टम का उपयोग करती है। गांव के हर घर का बैंक में खाता है। गांव की अपनी वेबसाइट है। ग्रामीण अनाज और दूध को लोकल मंडी में कैशलैस बेचते हैं। प्राइमरी, सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी स्कूल में स्मार्ट बोर्ड, कंप्यूटर और टैबलेट्स हैं। सभी कार्यों को डिजिटली अंजाम दिया जाता है। कहने का मतलब यह कि डिजिटल इंडिया का सपना अब गांवों में भी साकार हो रहा है।
देश का पहला डिजिटल पिंक विलेज हसुड़ी औसानपुर
उप्र के सिद्धार्थ नगर जिले का हसुड़ी औसानपुर गांव देश का पहला डिजिटल पिंक विलेज है। गांव की प्रत्येक जानकारी जीआईएस (जियोग्राफिकल इनफार्मेशन सिस्टम) सॉफ्टवेयर पर है। ग्राम प्रधान दिलीप त्रिपाठी की पहल से पूरा गांव महिलाओं को समर्पित है। गांव की आबादी 1124 है। पंचायत का सालाना बजट सिर्फ 5 लाख है। फिर भी पूरा गांव वाई-फाई है। सरकारी स्कूल में शौचालय,लाइब्रेरी और सीसीटीवी है। हर दूसरे घर के बाहर कूड़ादान है। पूरे गांव में 23 सीसीटीवी कैमरे हैं। हर गली-मोहल्ले में सोलर लाइट है। चौराहों पर लाउडस्पीकर लगें हैं। हर घर में शौचालय है। गांव में ही कंप्यूटर सेंटर और सिलाई सेंटर भी हैं। बारिश के पानी को एकत्र कर फिर से इस्तेमाल में लाने का भी सिस्टम गांव में है। गांव का हर घर पिंक कलर में है। हर गली भी गुलाबी रंग में रंगी हुई है। यही नहीं गांव के हर घर की नेमप्लेट पर घर की बेटी का नाम लिखने का क्रम जारी है। कुल मिलाकर महिलाओं के रंग का प्रतीक गांव में घुसते ही दिख जाता है। इस अनूठे काम के लिए यहां के ग्राम प्रधान को प्रधानमंत्री ने नाना जी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम पुरस्कार और दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरुस्कार से सम्मानित किया है।
देश का पहला आत्मनिर्भर गांव होगा पिंडारा ठाकुर
अमेठी का पिंडारा ठाकुर गांव देश का ऐसा डिजिटल गांव होगा जो पूरी तरह से आत्मनिर्भर होगा। इस गांव का चयन सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सामान्य सेवा केंद्र के रूप में किया गया है। डिजिटल इंडिया पहल के तहत इस गांव में डिजिटल गांव परियोजना के तहत 206 कार्यक्रम उपलब्ध होंगे। इसमें वाई-फाई चौपाल, एलईडी बल्बों के विनिर्माण, सैनिटरी पैड बनाने की एक इकाई और पीएम डिजिटल लिटरेसी पहल शामिल है। डिजिटल बैंकिंग के साथ गांव की जरूरत गांव में ही पूरा करने के प्रयास होंगे। गांव के बेरोजगारों को गांव में ही रोजगार उपलब्ध कराने की कोशिश होगी।
यूपी का पहले डिजिटल गांव था लतीफपुर
उप्र का पहला डिजिटल गांव लखनऊ के माल ब्लॉक का लतीफपुर गांव था। इस गांव की सारी चीजें इन्टरनेट पर हैं। 1600 परिवारों के इस गांव में 198 लोगों को पेंशन मिल रही है। 80 प्रतिशत लोगों के पास राशन कार्ड है। गांव की सभी समस्याएं ऑनलाइन दर्ज होती हैं। ग्राम पंचायत का खुद का इन्टरनेट कनेक्शन है जो 21.1 एमबीपीएस स्पीड पर चलता है। डिजिटल लतीफपुर वाट्सएप ग्रुप से गांव के लेखपाल, पंचायत सेक्रेट्री,ग्रामप्रधान समेत गांव के लोग जुड़े हैं। वॉइस मेसेज या विडियो बनाकर इस ग्रुप में समस्याएं भेजी जाती हैं। इससे परेशानी जल्द से जल्द सॉल्व की जाती है। गांव में डोरस्टेप बैंकिंग की सुविधा है। बैंक कर्मचारी खुद घर पहुंचते हैं और जरूरतमंद से अंगूठा लगवाकर पैसे देते हैं। गांव के सभी सरकारी काम पेपरलेस हो चुके हैं। यहां महिला प्रधान श्वेता सिंह को उत्तर प्रदेश सरकार ने रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड से सम्मानित किया है।
मेरठ का नगला हरेरू प्रदेश का पहला कैशलेस गांव
digital
मेरठ का नगला हरेरू गांव उप्र का पहला कैशलेस गांव है। गांव को पंजाब नेशनल बैंक ने गोद लिया था। गांव के सभी लोग कैशलेस पेमेंट करते हैं। सभी भुगतान डिजिटल तरीके से होते हैं। गांव की आबादी लगभग 7 हजार है। जिसमें से 4500 के बैंक खाते हैं। इन खाता धारकों में से 2 हजार से अधिक के पास एटीएम और रूपे डेबिट कार्ड हैं। 400 खाता धारकों के मोबाइल फोन में पीएनबी किटी यानी डिजिटल बटुआ है। गांव के 30-35 दुकानदार डिजिटल बैंकिंग चैनलों से सुविधाजनक रूप से लेनदेन करते हैं। यहां तक कि सब्जियां तक भी ऑनलाइन और कैशलेस बेची जाती हैं।
उप्र का पहला खुले में शौच मुक्ति गांव तौदधकपुर
रायबरेली के लालगंज ब्लॉक का तौधकपुर गांव उप्र का पहला ऐसा गांव है जो खुले में शौच से मुक्ति यानी पूर्ण ओडीएफ गांव है। यह स्वच्छ भारत मिशन को सही मायने में चरितार्थ कर रहा है। ग्राम प्रधान कार्तिकेय बाजपेई ने खुद की व्यवस्था से स्वच्छता मिशन पर बहुत सराहनीय काम किया है। 3500 की आबादी वाले गांव के हर घर में शौचालय है। कोई आदमी खुले में तो शौच नहीं कर रहा उसकी निगरानी के लिए कैमरे लगे हैं। शौचालयों में रंगाई-पुताई के साथ ही जागरूकता स्लोगन लिखे हैं। बिजली के खंभों पर सीसीटीवी कैमरे, लाउडस्पीकर लगे हैं। प्रधान एक कंट्रोल रूम से इसकी निगरानी करते हैं। पूरे गांव को स्मार्ट गांव बनाने की कवायद जारी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: पंजाब में चुनाव की तारीख टली, अब 20 फरवरी को होगी वोटिंगचुनाव आयोग का बड़ा फैसला, पत्रकारों सहित इन लोगों को मिलेगी पाँच राज्यों के चुनावों में पोस्टल बैलेट की सुविधापीएम मोदी की सुरक्षा में चूक मामले की जांच कर रहीं जस्टिस इंदु मल्होत्रा को SFJ ने दी धमकीहरक रावत की बीजेपी से छुट्टी पर सीएम पुष्कर धामी का बड़ा बयान, बोले- पार्टी पर बना रहे थे दबावभारत में एक दिन में कोरोना के 2.71 लाख नए मामले आए सामने, 314 की मौतछत्तीसगढ़ के इस जिले में 25 फीसदी पहुंचा कोरोना पॉजिटिविटी रेट, हर दिन मिल रहे पांच सौ से ज्यादा नए मरीजतमिलनाडु के Jallikattu उत्सव में पुलिसकर्मियों समेत कई लोग घायल, अस्पताल में भर्तीVivah Muhurat 2022: इस साल मई-जून महीने में होगी शादियों की भरमार, जानिए 2022 के विवाह के शुभ मुहूर्त
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.