योगी सरकार किसानों के लिए लेकर आई नई योजना, कम रेट में मिलेंगी पौष्टिक सब्जियां, आय में होगी बढ़ोत्तरी

योगी सरकार उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड के किसानों के लिए खास योजना लेकर आई है। योगी सरकार ने 'एक थाली-एक तरकारी' योजना शुरू की है, जिसके लिए उद्यान विभाग ने यहां पैदा होने वाली सब्जियों का प्रस्ताव निदेशालय भेज दिया है।

By: Karishma Lalwani

Published: 03 Mar 2021, 09:49 AM IST

लखनऊ. योगी सरकार उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड के किसानों के लिए खास योजना लेकर आई है। योगी सरकार ने 'एक थाली-एक तरकारी' योजना शुरू की है, जिसके लिए उद्यान विभाग ने यहां पैदा होने वाली सब्जियों का प्रस्ताव निदेशालय भेज दिया है। इसके तहत बुंदेलखंड के लोगों को कम रेट में ही पौष्टिक सब्जियां मिलेंगी। अभी तक बाहर से सब्जियां मंगवाने पर रेट काफी ज्यादा हो जाते हैं, जिससे लोगों को शुद्ध और ताजी सब्जी नहीं मिल पाती है। सब्जी की इस कमी को दूर करने के लिए सरकार ने अब 'एक थाली-एक तरकारी' योजना शुरू करने का निर्णय लिया है। योजना के तहत बीपीएल परिवार के काश्तकारों को चिह्नित कर निशुल्क की सब्जी की पौध व बीज उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए उद्यान विभाग ने बीपीएल किसानों की सूची शासन को भेज दी है।

सिंचाई के साधन होने के बावजूद अधिकांश किसान रबी सीजन में गेहूं या दलहन की पैदावार करते हैं, जबकि खरीफ सीजन में भी परंपरागत फसलें ही बोते हैं। सब्जी की खेती करने वाले किसानों की संख्या काफी कम रहती है। किसान इसकी खेती को जोखिम भरी मानते हैं, क्योंकि सब्जी पर मौसम का प्रभाव तेजी से पड़ता है। किसानों की इसी सोच के कारण बुंदेलखंड में सब्जी का क्षेत्रफल तेजी से घट रहा है, जिसका असर बाजार पर भी देखने को मिलता है।

विशेषज्ञों की मिलेगी सलाह

इस कमी को दूर करने के लिए योगी सरकार ने इस योजना की शुरुआत की है। शुरुआती तौर पर किसानों को प्रशिक्षित किया जाएगा। उन्हें विशेषज्ञों द्वारा समय-समय पर सलाह भी दी जाएगी। घर की छत या आंगन में भी सब्जी उगाई जाएगी, जिससे लोगों को कम रेट में ताजी व पौष्टिक सब्जी उपलब्ध हो सकेगी और किसानों की आय में भी बढ़ोत्तरी हो सकेगी। इसके लिए शासन ने प्रत्येक जनपद से वहां पैदा होने वाली सब्जी का प्रस्ताव व बीपीएल किसानों की सूची मांगी थी, उद्यान विभाग ने प्रस्ताव भेज दिया है।

ये भी पढ़ें: कोरोना काल में स्कूल खुलने के पहले ही दिन बगैर मास्क के क्लास रूम में दिखाई दिए बच्चे, टीचरों ने पढ़ाना नहीं समझा मुनासिब

ये भी पढ़ें: बीएचयू में धरने पर बैठी महिला प्रोफेसर का आरोप, दलित होने की वजह से हो रहा उत्पीड़न, क्लास लेने से रोकते हैं अन्य शिक्षक

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned