यूपी की पांच जेल जल्द ही नए वजूद में, हाई सिक्योरिटी जेल बनाकर रखे जाएंगे बंदी

उत्तर प्रदेश में पांच जेल जल्द ही नए वजूद में आएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने जेलों को हाईटेक बनाने के लिए जेलों में अत्याधुनिक उपकरणों और मशीनों की खरीद के लिए जल्द प्रस्ताव लाने को कहा है। उन्होंने जेलों में सुरक्षा-व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण करते हुए तलाशी एवं संचार व्यवस्था को आधुनिक बनाने के निर्देश भी दिए

By: Karishma Lalwani

Updated: 24 Jul 2020, 01:54 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पांच जेल जल्द ही नए वजूद में आएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने जेलों को हाईटेक बनाने के लिए जेलों में अत्याधुनिक उपकरणों और मशीनों की खरीद के लिए जल्द प्रस्ताव लाने को कहा है। उन्होंने जेलों में सुरक्षा-व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण करते हुए तलाशी एवं संचार व्यवस्था को आधुनिक बनाने के निर्देश भी दिए। उत्तर प्रदेश के आजमगढ़, लखनऊ, गौतमबुद्धनगर, बरेली और चित्रकूट की जेलों को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस करने का प्रस्ताव तैयार किया जाना है। इन जेलों को हाई सिक्योरिटी जेल बनाकर कुख्यातों को यहां रखे जाने का प्रस्ताव पूर्व में ही शासन को भेजा जा चुका है, जिस पर सहमति के बाद अब इन जेलों में अत्याधुनिक उपकरणों की खरीद का प्रस्ताव बन रहा है। इन जेलों में नॉन लिनियर जंक्शन डिटेक्टर, बैगेज स्कैनर, फुल ह्यूमन बॉडी स्कैनर, ड्रोन कैमरा, बॉडी वॉर्न कैमरे, नाइट विजन बाइनाकुलर, उच्च क्षमता के हैंड हेल्ड मेटल डिटेक्टर समेत अन्य अत्याधुनिक उपकरण खरीदे जाने हैं। इन जेलों में फाइव-जी जैमर भी लगाने की योजना है।

कॉमर्शियल वाशिंग मशीन भी लगेगी जेल में

इसके अलावा 55 जेलों में पांच मेगापिक्सल के सीसीटीवी कैमरे, 12 जेलों में कामर्शियल वॉशिंग मशीन व अन्य उपकरण लगाए जाने के भी प्रस्ताव हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जेलों की पाकशालाओं में साफ-सफाई की व्यवस्था उच्च कोटि की करने व उनके आधुनिकीकरण तथा ई-प्रिजन कार्ययोजना को और सशक्त बनाने के भी कड़े निर्देश दिए हैं।

दरअसल, गुरुवार को मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर जेलों के लिए उपकरणों व मशीनों के लिए क्रय योजना तय कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने जेलों की व्यवस्था में सुधार लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन एवं प्रबंध व्यवस्था में सुधार के लिए सुरक्षा, संचार, तलाशी एवं तथा बंदी सुविधाओं से संबंधित विभिन्न उपकरणों एवं मशीनों की व्यवस्थाएं की जाएं। जेलों की पाकशालाओं (कैंटीन) में सफाई एवं स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए पाकशालाओं का आधुनिकीकरण किया जाए। ई-प्रिजन कार्ययोजना के सुदृढ़ीकरण के लिए मैनपॉवर तथा कम्प्यूटर हार्डवेयर की व्यवस्था की जाए। उन्होंने जेलों में हेवी ड्यूटी वाशिंग मशीन की व्यवस्था के संबंध में प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए।

कोविड-19 संक्रमण से हो बचाव

मुख्यमंत्री ने कहा जेलों में कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोका जाना चाहिए। इसके लिए बंदियों व जेल स्टाफ की कोविड-19 की चेकिंग की जाए और संक्रमण पाए जाने पर शीघ्र कार्रवाई की जाए। अपर मुख्य सचिव गृह एवं जेल अवनीश कुमार अवस्थी ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि जेलों में उपकरणों व मशीनों की खरीद प्राथमिकता से की जा रही है। इस संबंध में प्रस्ताव शीघ्र ही प्रस्तुत किया जाएगा। चरणबद्ध रूप से प्रदेश की सभी जेलों में एवं जिला न्यायालयों में वीडियो कांफ्रेंसिंग इकाइयों की स्थापना कराई गई है। डीजी जेल आनंद कुमार ने जेलों के संबंध में कार्ययोजना का प्रस्तुतीकरण किया।

ये भी पढ़ें: विकास दुबे की पत्नी बोलीं- अपने बच्चों को अपराध की दुनिया से रखा अलग, विकास की मौत के बाद छोटा बेटा सदमे में

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned