scriptIncome Tax department change in Faceless Assessment Scheme know detail | Income Tax department ने दी करदाताओं को राहत, Faceless Assessment Scheme में किया बड़ा बदलाव | Patrika News

Income Tax department ने दी करदाताओं को राहत, Faceless Assessment Scheme में किया बड़ा बदलाव

Income Tax department : आयकर विभाग ने अपनी Faceless Assessment Scheme में बड़ा बदलाव कर दिया है। इस बदलाव के तहत अब अगर Taxpayers चाहें, तो वह इनकम टैक्स ऑफिसर के सामने अपनी बात वीडियो कॉलिंग के जरिए भी रख सकते हैं। आपको बता दें कि इससे पहले इनकम टैक्स के चीफ कमिश्नर या फेसलेस अपील सेंटर के डायरेक्टर जनरल से अनुमति के बिना इस तरह की बातचीत नहीं होती थी।

लखनऊ

Published: December 31, 2021 01:19:54 pm

income tax Department : नये साल से पहले इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अपने करदाताओं को एक बड़ी राहत दी है। दरअसल, आयकर विभाग ने अपनी Faceless Assessment Scheme में बड़ा बदलाव कर दिया है। इस बदलाव के तहत अब अगर करदाता चाहें, तो वह इनकम टैक्स ऑफिसर के सामने अपनी बात वीडियो कॉलिंग के जरिए भी रख सकते हैं। आपको बता दें कि इससे पहले इनकम टैक्स के चीफ कमिश्नर या फेसलेस अपील सेंटर के डायरेक्टर जनरल से अनुमति के बिना इस तरह की बातचीत नहीं होती थी। मगर अब इस स्कीम में हुए इस सकारात्मक बदलाव से निश्चित तौर पर करादाताओं को बड़ी राहत मिलेगी।
faceless_scheme.jpg
यह भी पढ़ें

1000 रुपये के Investment से कमाइये 20 लाख रुपये, ऐसे करिए निवेश

मांग करने पर दी जाएगी सुविधा

इस संबंध में सीबीडीटी यानि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने जो विज्ञप्ति जारी की है उसके मुताबिक, यह नई सुविधा उन्हीं करदाताओं को दी जाएगी जो इस सुविधा की मांग करेंगे। यानी अब अगर करदाता चाहें, तो वह इनकम टैक्स ऑफिसर के सामने अपनी बात वीडियो कॉलिंग के जरिए भी रख सकते हैं। हांलाकि इस प्रक्रिया के दौरान भी करदाता और इनकम टैक्स अधिकारी नहीं मिलेंगे।
आपको बता दें कि सीबीडीटी ने सितंबर 2020 में फेसलेस असेस्मेंट स्कीम की शुरुआत की थी। इस स्कीम के तहत करदाताओं को सारी जानकारी ईमेल के जरिए ऑनलाइन ही भेजनी होती थी। वहीं अगर कोई करदाता अपनी बात रखने के लिए आयकर अधिकारियों से मिलना चाहता था तो उसे इसके लिए खास इजाजत लेनी पड़ती थी। ये इजाज़त इनकम टैक्स के चीफ कमिश्नर या फेसलेस अपील सेंटर के डायरेक्टर जनरल ही दे सकते थे। लेकिन इस बदलाव के बाद अब इसकी जरूरत बिल्कुल नहीं पड़ेगी।
यह भी पढ़ें

नये साल में 26000 रुपये हो सकती है केंद्रीय कर्मचारियों की न्यूनतम सैलरी, जानिए क्या-क्या होगा इज़ाफा

फेसलेस स्कीम का उद्देश्य ये है कि आयकर अधिकारी, करदाताओं को बेवजह परेशान न कर सकें। इस स्कीम के तहत ऑनलाइन आवेदन करने पर टैक्सपेयर का मामला एक ऑटोमेटेड सर्वर के जरिए अलग रीजनल असेसमेंट सेंटर में पहुंच जाता है। उदाहरण के लिए, कानपुर के टैक्सपेयर का असेसमेंट चेन्नई का ऑफिसर करेगा और लखनऊ के टैक्सपेयर का केस मुंबई में असेस होगा। इस योजना के तहत दोनों टैक्सपेयर और टैक्स अधिकारी न कभी मिलते हैं न जानते हैं। इससे टैक्स ऑफिसर करदाता को बेवजह परेशान नहीं कर सकता है।
अदालत में लगे थे पहुंचने मामले

इस स्कीम के तहत टैक्सपेयर के मामले कोर्ट पहुंचने लगे कि उन्हें अपनी बात रखने का मौका नहीं मिल रहा था। इसलिए वीडियो कांफ्रेंसिंग की इजाजत दी गई है। अब करदाता अपने केस के ऑफिसर इन चार्ज को सीधा अपील भेज पाएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.