कल से ‘मिशन शक्ति’ का आगाज, योगी ने कहा असामाजिक तत्व गले में तख्ती लटकाकर माफी मांगते फिरें या प्रदेश

- 17 अक्टूबर से मिशन शक्ति होगा शुरू

- छह महीनों तक चलने वाले इस अभियान में नवरात्रि के नौ दिनों तक दिनों तक हर थाने में अराजकतत्वों की सूची बनाई जाएगी

By: Karishma Lalwani

Published: 16 Oct 2020, 02:48 PM IST

लखनऊ. प्रदेश में महिलाओं और बालिकाओं की सुरक्षा, उनके सम्मान और स्वावलंबन के लिए योगी सरकार 17 अक्टूबर से मिशन शक्ति का आगाज करने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बलरामपुर से और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल लखनऊ से इस अभियान की शुरूआत करेंगी। यह अभियान शारदीय से वासंतिक नवरात्रि तक चलेगा। छह महीनों तक चलने वाले इस अभियान में नवरात्रि के नौ दिनों तक दिनों तक हर थाने में अराजकतत्वों की सूची बनाई जाएगी। विजयदशमी के ठीक बाद अपराधियों को उनके गुनाह की सजा मिलेगी। उन पर कार्रवाई शुरू हो जाएगी।

घोषित दुराचारियों की चौराहों पर लगे तस्वीर

गुरुवार को शासन स्तर एवं जिला स्तर के अधिकारियों मिशन शक्ति के संबंध में निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कार्यक्रम अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसे सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए। मुख्यमंत्री ने दो टूक शब्दों में कहा कि महिलाओं, बेटियों, नाबालिग बच्चों और अनुसूचित जाति के लोगों के विरुद्ध अपराध करने वालों का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं। ऐसे असामाजिक तत्वों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई की जाए कि वह गले मे तख्ती लटकाकर माफी मांगते फिरें या प्रदेश छोड़कर भाग जाएं। आरोपियों के खिलाफ होने वाली कार्रवाईयों की दैनिक रिपोर्टिंग होनी चाहिए व शासन स्तर पर इसकी समीक्षा हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि घोषित दुराचारियों की चौराहों पर फोटो लगाएं।

त्योहार को लेकर सतर्क रहें अधिकरी

नवरात्रि, दशहरा, दीवाली सहित आगमी त्योहारों पर अपराध की गतिविधियों पर अंकुश लग सके, इसके लिए मुख्यमंत्री योगी ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि थाना स्तर पर भ्रष्टाचार की शिकायतों में अब पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारियों पर भी जवाबदेही तय होगी। किसी माफिया या अपराधी के साथ किसी अधिकारी की संलिप्तता मिली तो उस अधिकारी के विरुद्ध ऐसी सख्त कार्रवाई होगी, जो नजीर बनेगी।

छह माह तक चलेगा अभियान

मिशन शक्ति अभियान छह माह तक चलेगा। इस संबंध में मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने सभी विभागों और पुलिस अफसरों को निर्देश जारी किए हैं। निर्देश में कहा गया है कि अभियान के दौरान सभी जिला, ब्लॉक, निकाय, थाना व पंचायतों के माध्यम से महिलाओं और बालिकाओं को आत्म निर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण, सुरक्षा एवं सम्मान के प्रति जागरूक किया जाएगा। वहीं अभियान के दौरान ऐसी महिलाओं को रोल मॉडल के रूप में चुना जाएगा जो समाज के लिए प्रेरणा बनीं हों। इनका चयन सामाजिक व महिला संगठन, मीडिया व समाज सेवियों की समिति करेगी।

हर थाने में महिला हेल्प डेस्क

अभियान में शामिल हर विभाग की कार्ययोजना होगी। महिलाओं को जागरूक करने के लिए नवरात्र के दौरान बने पूजा पंडालों में लघु फिल्म व गांव-गांव में नुक्कड़ नाटकों का सहारा लिया जाएगा। यही नहीं हर थाने में महिला हेल्प डेस्क बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं। सभी थानों पर एंटी रोमियो स्क्वॉयड को शोहदों के खिलाफ अभियान भी चलाने को कहा गया है। मिशन शक्ति अभियान अप्रैल 2021 तक चलेगा।

हर जिले में नोडल अधिकारी

अभियान के लिए हर जिले में नोडल अधिकारी नामित किए गए हैं, जो कि जिला स्तर पर पॉक्सो व महिला अपराधों के निस्तारण व मिशन शक्ति की समीक्षा करेंगे।

ये भी पढ़ें: ऑपरेशन के बाद पेट में छोड़ दिया तौलिया, इंफेक्शन होने पर मरीज की मौत

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned