ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर ने बिगाड़ी मुलायम सिंह यादव की तबीयत

ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर ने बिगाड़ी मुलायम सिंह यादव की तबीयत

Alok Pandey | Updated: 10 Jun 2019, 07:43:07 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में डाक्टर्स की निगरानी मे, शिवपाल और डिंपल भी अस्पताल में

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के संरक्षक और सैफई परिवार के मुखिया मुलायम सिंह यादव की तबीयत ज्यादा बिगड़ गई है। उन्हें आपातकालीन स्थितियों में राजधानी के डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के आईसीयू में भर्ती किया गया है। डाक्टर्स के मुताबिक, डायबिटीज अनियंत्रित होने के बाद ब्लडप्रेशर भी काबू से बाहर होने के कारण सपा संरक्षक की हालत नाजुक हो गई है। रविवार की देर शाम हालत बिगडऩे पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां देर रात स्थिति में कुछ सुधार नजर आया था। खबर है कि सोमवार की सुबह फिर स्थिति बिगड़ गई है। डाक्टरों के मुताबिक, डायबिटीज अनियंत्रित होने पर मल्टी आर्गन फेल्योर का खतरा रहता है।

डिंपल और शिवपाल समेत कई परिजन तीमारदारी में जुटे

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर एके त्रिपाठी के अनुसार, स्थिति बिगडऩे पर मुलायम सिंह यादव जब आयुर्विज्ञान संस्थान पहुंचे तो कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. भवन चंद तिवारी ने जांचा। पड़ताल में ब्लड शुगर की स्थिति बहुत ज्यादा पाई गई, इसके अतिरिक्त ब्लड प्रेशर भी 240/170 था। इस स्थिति को हायपर डायबिटीज और ग्लासिमिया कहते हैं। ऐसे में आनन-फानन में मुलायम सिंह यादव को आईसीयू में भर्ती करा दिया गया, जहां देर रात नौ बजे स्थिति में सुधार देखा गया। परिवार के मुखिया की हालत बिगडऩे और अस्पताल में भर्ती होने की खबर मिलते ही उनके अनुज और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव, बहू और अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल समेत कई परिजन लोहिया संस्थान पहुंच गए।

स्थिति सुधरी तो मंगलवार को होंगे डिस्चार्ज

डाक्टर्स के मुताबिक, रविवार की देर शाम स्थिति में सुधार को देखते हुए सोमवार को डिस्चार्ज करने का इरादा था, लेकिन सोमवार की सुबह स्थिति एक बार फिर कुछ नाजुक हो गई। ऐसे में स्थिति नियंत्रित रहती है तो एक दिन निगरानी में रखने के बाद मंगलवार को डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि ७९ वर्ष के मुलायम सिंह कई महीनों से बीमार हैं। इसीलिए बीते लोकसभा चुनाव में उन्होंने ऐलान किया था कि यह उनका आखिरी चुनाव है। फिलहाल, लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की दुर्गति के बाद मुलायम सिंह यादव आजकल अखिलेश और शिवपाल में सुलह की कोशिश में जुटे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned