scriptsurrogacy kya hai in hindi | Surrogacy Kya Hai : सरोगेसी क्या होता है कितना आता है खर्च कैसे होता है बच्चे का जन्म | Patrika News

Surrogacy Kya Hai : सरोगेसी क्या होता है कितना आता है खर्च कैसे होता है बच्चे का जन्म

जानिए सरोगेसी के बारे में पूरी जानकारी - क्या होता है (Surrogacy Kya Hai ), प्रक्रिया, सरोगेसी नियम कानूनऔर कितना आता है सरोगेसी में खर्च

लखनऊ

Updated: February 01, 2019 05:56:48 pm

सरोगेसी क्या है: इन दिनों पूरे इंडिया में सरोगेसी (Surrogacy) यानि स्थानापन्न मातृत्व/किराए की कोख काफी चर्चे में है | इसका मतलब आसान भाषा में अगर समझा जाए तो सरोगेसी का मतलब है किसी और की कोख से अपने बच्चे को जन्म देना। अगर कोई पति-पत्नी बच्चे को जन्म नहीं दे पा रहे हैं, तो किसी अन्य महिला की कोख को किराए पर लेकर उसके जरिए बच्चे को जन्म देना सरोगेसी की प्रक्रिया (Surrogacy Process) कही जाती है। बच्चा पैदा करने के लिए जिस महिला की कोख को किराए पर लिया जाता है, उसे सरोगेट मदर (Surrogate Mother) कहा जाता है।
surrogacy kya hai in hindi

surrogacy y Kya Hai : ? सरोगेसी का मतलब क्या होता है

लखनऊ में एक प्रमुख सरोगेसी सेंटर की संचालिका डॉ सुनीता चंद्रा के अनुसार कि क्या है सरोगेसी का मतलब वे कहती हैं कि कुछ महिलाओं के गर्भाशय में प्राकृतिक-तकनीकी कमी के कारण भ्रूण का पूरा विकास नहीं हो पाता है। भ्रूण के परिपक्व होने के पहले ही महिला का गर्भपात हो जाता है। ऐसी स्थिति में ऐसी महिलाएं मातृत्व सुख से वंचित रह जाती हैं। लेकिन अब आईवीएफ तकनीकी की सहायता से ऐसी महिलाओं को भी मातृत्व का सुख दिया जाना संभव होने लगा है।
ऐसी स्थिति में महिला के गर्भाशय में अंडे के निषेचित होने के बाद एक निश्चित अवधि पर उसे महिला के गर्भ से निकालकर एक अन्य स्वस्थ महिला के गर्भ में प्रत्यारोपित कर दिया जाता है जहां इसका पूर्ण विकास होता है। समय पूरा होने पर इससे एक स्वस्थ बच्चे का जन्म होता है। इसमें पति-पत्नी और एक तीसरी महिला (किराए की कोख) सरोगेट मदर (Surrogate Mother) के नाम से जाना जाता है।
कितना आता है सरोगेसी प्रक्रिया में खर्च :

डॉ चंद्रा बताती है कि सरोगेसी एक बहुत महंगी प्रक्रिया है। उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां 70 से ज्यादा महिलाएं हर साल अपनी कोख बेचती हैं। हर महीने 6 से आठ सरोगेट मदर बच्चे को दे रही है। सबसे खास बात ये है कि 90 प्रतिशत मामलों में सरोगेट मदर को कोख का किराया दिया जाता है। सरोगेसी प्रक्रिया में खर्च 15 -20 लाख रूपए आसानी से लग जाते हैं। वे आगे कहती हैं कि सरोगेसी का ऑप्शन चुनना गलत नहीं हैं लेकिन आपको पूरी जांच पड़ताल करनी जरूरी है।
यह भी पढ़ें
लाखों में होता है किराए की कोख का खेल...

जाने कौन सी महिलाएं होती हैं शामिल

जानवरों में भी होती है सरोगेसी प्रक्रिया

अभी तक आपने सेरोगेसी प्रक्रिया सिर्फ इंसानों में ही सुनी होगी पर हम आपको जानवरों में भी सेरोगेसी प्रक्रिया के बारे में बताने जा हैं। आज से चार साल पहले यूपी सरकार ने गाय की खास नस्ल को बचाने के लिए सरोगेसी का सहारा लेने का फैसला लिया था। गाय की इस खास नस्ल का नाम ‘गंगातीरी’ है। पशुधन विकास विभाग ने 290 गंगातीरी नस्ल की गायों की कोख किराए पर लिया था । यह गायें सरोगेट मदर जैसी थी, जिनसे पैदा होने वाले बछड़े और बछिया गंगातीरी की नस्ल को आगे बढ़ाने के काम आये ।
बता दें कि यूपी में गाय की गंगातीरी प्रजाति खत्म होती जा रही है। किसी जमाने में यह प्रजाति इलाहाबाद से बलिया तक गंगा के किनारे मिलती थी, लेकिन इनकी संख्या लगातार कम होती जा रही है। ऐसे में रोज 10 से 15 लीटर दूध देने वाली गंगातीरी गायों को बचाने के लिए राज्य के पशुधन विकास विभाग ने 290 गंगातीरी नस्ल की गायों की कोख किराए पर लेने का फैसला किया था । यह गायें सरोगेट मदर जैसी है , जिनसे पैदा होने वाले बछड़े और बछिया गंगातीरी की नस्ल को आगे बढ़ाने के काम करेंगी ।
इन कारणों से भी महिलाएं लेती हैं सरोगेसी का सहारा

डॉ चन्द्रा स्वीकारती हैं कि उनेक पास कई दफा अमीर घरों से ऐसे मामले भी आते हैं जिनमें महिला अपने फिगर को लेकर बच्चे पैदा नहीं करना चाहतीं। कुछ का तो यह भी तर्क होता है कि अपनी लाइफ स्टाइल की वजह से उन्हें नौ महीने तक इस स्ट्रेस से गुजरना ठीक नहीं लगता। डॉ चन्द्रा कहती है कि ऐसे मामलों पर रोक के लिए सख्त बिल लाना ही समाज के लिए हितकर है।

सेरोगेसी प्रक्रिया में विवाद भी होते हैं
डॉ सुनीता चंद्रा बताती हैं कि कई बार बच्चे को जन्म देने के बाद सरोगेट मां भावनात्मक लगाव के चलते बच्चे को देने से इनकार कर देती है और ऐसी स्थिति में विवाद की स्थिति निर्मित हो जाती है। ऐसे कई मामले सामने भी आए हैं। दूसरी ओर कई बार ऐसा भी होता है जब जन्म लेने वाली संतान विकलांग होती है या अन्य किसी गंभीर ‍बीमारी से ग्रस्त होती है तो इच्छुक दंपति उसे लेने से इनकार कर देते हैं।

जानिए, इन स्थितियों में बेहतर विकल्प है सरोगेसी

-आईवीएफ उपचार फेल हो गया हो.
-बार-बार गर्भपात हो रहा हो.
-भ्रूण आरोपण उपचार की विफलता के बाद.
-गर्भ में कोई विकृति होने पर.
-गर्भाशय या श्रोणि विकार होने पर.
-दिल की खतरनाक बीमारियां होने पर. जिगर की बीमारी या उच्च रक्तचाप होने पर या उस स्थिति में जब गर्भावस्था के दौरान महिला को गंभीर हेल्थ प्रॉब्लम होने का डर हो.
-गर्भाशय के अभाव में.
-यूट्रस का दुर्बल होने की स्थिति में

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंऐसा होगा यूपी का पहला कृत्रिम समुद्र, यहां देखें तस्वीरें, मुफ्त मनोरंजन और रोजगार भीबनना चाहते थे फौजी, किस्‍मत ने बनाया क्रिकेटर, ऐसी है Delhi Capitals के मैच विनर की कहानीरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मतबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करेंकई संपत्ति के मालिक होते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोग, होते हैं किस्मत वालेइन 4 बर्थ डेट वाली लड़कियां बनती हैं अच्छी पत्नी, चमका देती हैं पति की तकदीरजबरदस्त डिमांड के चलते 17 महीनों तक पहुंचा Kia की इस 7-सीटर कार का वेटिंग! कम कीमत में Innova को देती है टक्कर

बड़ी खबरें

PM मोदी ने कहा- हमारे 800 से ज्यादा स्टार्टअप स्पोर्ट्स से जुड़े, मोबाइल गेमिंग में दुनिया के टॉप 5 देशों में है भारतकटरा से जम्मू जा रही बस में लगी आग, 4 लोगों की मौत, 20 यात्री झुलसेInflation in States : पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक महंगाई, राजस्थान भी देश के 10 सबसे महंगे राज्यों मेंपंजाब DGP ने खोला मोहाली हमले का राज, कनाडा में बैठे मास्टरमाइंड ने ISI की मदद से करवाया ब्लास्टCongress Chintan Shivir 2022 : सोनिया गांधी ने कहा, अपनी नाकामयाबियों से बेखबर नहीं हैं, पार्टी को उसी भूमिका में लाएंगे जो सदैव निभाई हैन धोनी, न रोहित खराब फॉर्म के बावदूज विराट कोहली ने छुआ यह कीर्तिमान, ऐसा करने वाले इकलौते खिलाड़ीतमिलनाडु के मंत्री का विवादित भाषण, 'हिंदी बोलने वाले कोयंबटूर में पानी पूरी बेचते हैं''जो इस देश का नागरिक है, उसे राष्ट्रगान गाना चाहिए' - मदरसे में राष्ट्रगान पर बोले शाहनवाज हुसैन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.