पढ़ाई में है टॉपर, बनना चाहती है फाइटर पायलट, पढ़े पूरी कहानी

Motivational story in hindi: पायलट बनने का सपना तब से है, जब मैं पायलट का काम भी नहीं जानती थी।

motivational story in hindi: हर किसी का फ्यूचर को लेकर एक गोल होता है। साथ ही कंट्री के लिए हमारी रेस्पॉसिबिलिटी भी बनती है। अक्सर दोनों में प्रायोरिटी चुनना मुश्किल होता है। लेकिन मैं लकी हूं कि मेरे फ्यूचर गोल से इंडिया के लिए मुझे कुछ कर दिखाने का मौका मिलेगा। ये कहना है जयपुर की यंग टैलेंटेड गर्ल वैष्णवी एम. सक्सैना का, जो आगे चलकर फाइटर पायलट बनना चाहती हैं। हाल ही में वैष्णवी को एनसीसी बेस्ट कैडेट अवॉर्ड से भी नवाजा गया है।

ये भी पढ़ेः 12वीं पास वालों के लिए ये हैं शानदार कॅरियर, बरसेगा पैसा, होंगे मालामाल

ये भी पढ़ेः अगर आजमाएंगे ये टिप्स तो आपको करोड़पति बनने से कोई नहीं रोक सकता

एकेडमिक्स में टॉप स्कोरर होने के साथ वैष्णवी स्पोट्र्स में भी टॉप अचीवर हैं। वे 10 मीटर एयर राइफल नेशनल चैंपियनशिप में पिछले साल गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुकी हैं। साथ ही स्विमिंग में भी स्टेट क्वालिफाई किया है। अपने ड्रीम के बारे में बात करते हुए उन्होंने बताया कि पायलट बनने का सपना तब से है, जब मैं पायलट का काम भी नहीं जानती थी। पापा को देखकर हमेशा से ही मेरा फाइटर प्लेन उड़ाने का मन रहा है। मेरा सिर्फ एक ही गोल है देश के लिए फाइटर पायलट बनकर दुश्मनों के छक्के छुड़ाना।

वैष्णवी एनवार्यनमेंट कन्जर्वेशन को लेकर भी काफी एक्टिव हैं। वे हर साल बर्थडे सहित स्पेशल ऑकेजन पर प्लांटिंग करती हैं और अब तक 100 से भी ज्यादा पौधे लगा चुकी हैं, इनमें से ज्यादातर पेड़ का रूप ले चुके हैं। वैष्णवी को म्यूजिक से भी खासा लगाव है, वे बिगुल, सिंथेसाइजर और पियानो बजाने में एक्सपर्ट हैं। अपने एनसीसी कैम्पस के एक्सपीरियंस को लेकर वैष्णवी का कहना है कि जो औरों के लिए वर्स्ट एक्सपीरियंस होता है, वो मेरे लिए एडवेंचर और लाइफ टाइम एक्सपीरियंस था। वे पिछले साल आइएमए देहरादून में आयोजित मिलिट्री हिस्ट्री सेमिनार में भी पार्टिसिपेंट रही हैं।

Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned