होम लोन पर अभी सबसे कम ब्याज दर, अपना घर लेना हुआ और भी आसान

- 15 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा होम लोन का ब्याज।
- एकदम सस्ते होम लोन के साथ मिल रहे हैं कई फायदे।
- 6.65 फीसदी है फिलहाल सबसे कम ब्याज दर।

By: विकास गुप्ता

Updated: 05 Mar 2021, 03:05 PM IST

नई दिल्ली । घर खरीदने की सोच रहे लोगों के लिए शानदार मौका है। रियल एस्टेट में निवेश के लिए इससे अच्छा मौका शायद न मिले। दरअसल, इस समय घर खरीदने के लिए सस्ते ब्याज पर होम लोन मिल जाएगा। वर्तमान में होम लोन की दरें 15 साल के निचले स्तर पर हैं। होम लोन की ब्याज दरें वहां पहुंच गई हैं, जहां पर उन्हें नजरअंदाज करना मुश्किल हो चला है। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) के 10 आधार अंक ों की कटौती के बाद कोटक महिंद्रा बैंक ने भी अपनी होम लोन दरों में 6.65 प्रतिशत की कटौती की है। इनके बाद एचडीएफसी ने अपने ग्राहकों को बड़ी राहत देने वाला कदम उठाया है। बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए होम लोन पर ब्याज दर में 5 बेसिस पॉइंट यानी 0.05 प्रतिशत की कटौती की है।

कोटक महिंद्रा बैंक का होम लोन -
कोटक महिंद्रा बैंक 6.65% पर होम लोन दे रहा है। ये ऑफर 31 मार्च तक है। ये नए-पुराने सभी लोन पर लागू होगा। इसमें सैलरीड और बिजनेस दोनों ग्राहक शामिल हैं।
एसबीआइ होम लोन -
1 मार्च को एसबीआइ ने अपने खास ऑफर के तहत कस्टमर्स को होम लोन की ब्याज दर पर 70 बेसिस पॉइंट तक छूट देने का ऐलान किया है। इस ऑफर के तहत होम लोन की ब्याज दरें 6.70 फीसदी से शुरू होंगी, जो अब तक का रेकॉर्ड लो है। हालांकि ये ऑफर कस्टमर्स के सिबिल स्कोर और कर्ज की रकम पर बेस्ड होगा। इसके अलावा एसबीआइ ने 31 मार्च तक होम लोन पर प्रोसेसिंग फीस को भी पूरी तरह माफ कर दिया है।

होम लोन से पहले इन बातों का रखें ध्यान -
होम लोन के पहले इस बात लेखा-जोखा लें कि कमाई कितनी है और उस हिसाब से बैंक कितना लोन दे सकते हैं।
आपकी होम लोन लेने की क्षमता उसे चुकाने की कैपेसिटी पर निर्भर करती है। ये आपकी हर माह होने वाली आमदनी, खर्च और परिवार के दूसरे लोगों की कमाई, संपत्ति, देनदारी, आय में स्टेबिलिटी जैसे मसलों पर निर्भर करती है।
बैंक सबसे पहले यह देखते हैं कि आप समय पर होम लोन चुका पाएंगे या नहीं। हर महीने आपके हाथ में जितनी अधिक रकम आएगी, आपके होम लोन की राशि उतनी बढ़ती जाएगी। आमतौर पर कोई बैंक या कर्ज देने वाली कंपनी यह देखती है आप मासिक आमदनी का 50 फीसदी होम लोन की किस्त के रूप में दे पाएंगे या नहीं। होम लोन की अवधि और ब्याज दर पर भी लोन अमाउंट निर्भर करता है। इसके अलावा बैंक होम लोन के लिए उम्र की ऊपरी सीमा भी तय करके चलते हैं।

इन बातों का ध्यान रखें -
ब्याज की सही गणना
नियम व शर्तों की पूरी जानकारी
पुराने लोन के नियम व शर्तों की जानकारी
ब्याज दर बेंचमार्क पर विचार
ट्रांसफर का सही समय

डाउन पेमेंट-
प्रॉपर्टी की वैल्यू का 80-90% तक लोन
किसी मकान या फ्लैट की कीमत का 10-20 फीसदी तक डाउन पेमेंट करना पड़ता है। यह आपका अपना योगदान होता है। इसके बाद प्रॉपर्टी की वैल्यू का 80-90 फीसदी तक लोन मिल जाता है। इसमें रजिस्ट्रेशन, ट्रांसफर और स्टांप ड्यूटी जैसे चार्ज भी शामिल होते हैं। अगर कर्ज देने वाली इकाई आपको ज्यादा रकम होम लोन के रूप में अप्रूव कर दे, तब भी जरूरी नहीं कि आप सारी रकम लोन के रूप में ले लें। प्रॉपर्टी खरीदते वक्त आपको अधिक से अधिक डाउन पेमेंट करना चाहिए, जिससे लोन का बोझ कम से कम रहे। होम लोन पर कर्ज देने वाला बैंक लंबी अवधि में आपसे काफी ब्याज वसूलता है, इसका ध्यान रखें।

रिपोर्ट में दावा -
महिलाओं की रुचि-
प्रॉपर्टी कंसल्टेंट कंपनी एनरॉक की रिपोर्ट के मुताबिक, करीब 70 प्रतिशत से अधिक महिलाओं ने कहा कि घर खरीदने का यह सबसे उत्तम समय है। इसमें करीब 66 फीसदी महिलाएं ऐसी हैं, जो कि अफर्ोडेबल हाउसिंग में निवेश करना चाहती हैं। अधिकतर महिलाएं बेडरूम, किचन और हॉल (बीएचके) फॉर्मेट में घर खरीदना चाहती हैं।

ट्रांसफर भी रास्ता -
आप अपने लोन को कम ब्याज दर देने वाले या अन्य लाभ देने वाले उधारदाता को ट्रांसफर कर सकते हैं। जब बैलेंस ट्रांसफर का विकल्प चुनें, तो सुनिश्चित कर लें कि आपसे कोई गलती नहीं हो रही है।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned