Reliance Industries के Market Cap में 5 साल में 5 गुना का इजाफा

  • RIL Market Cap14 लाख 38 हजार करोड़ रुपए तक पहुंचा
  • BSE Market Cap में RIL की हुई 10 फीसदी तक हिस्सेदेारी

By: Saurabh Sharma

Updated: 28 Jul 2020, 10:14 AM IST

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी ( Mukesh Ambani ) की रिलायंस इंडस्ट्रीज ( Reliance Industries ) ने शेयर बाजार ( Share Market ) में पूरी तरह से बादशाहत कायम कर ली है। बीते पांच सालों में रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्केट कैप ( Reliance Industries Market Cap ) पांच सालों में 5 गुना बढ़ गया है। आंकड़ों की मानें तो रिलायंस इंडस्ट्रीज और रिलायंस पीपी को मिलाकर कंपनी का कुल मार्केट कैप 14.38 लाख करोड़ रुपए हो गया है। जिसकी वजह से बीएसई के कुल मार्केट कैप ( BSE Market Cap ) में रिलायंस की हिस्सेदारी 10 फीसदी तक हो गई है। जबकि रिलायंय इंडस्ट्रीज के मार्केट कैप में दोगुना इजाफा देखने को मिला है। आपको बता दें कि जब से रिलायंस की ओर अपने बिजनेस को ऑयल कारोबार के अलावा दूसरे कारोबारों की ओर रुख किया है, तब से कंपनी के शेयरों में इजाफा देखने को मिला है। रिलायंस जियो और रिलायंस रिटेल से कंपनी का काफी फायदा हुआ है।

बीएसई घटा, रिलायंस बढ़ा
- मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कैलेंडर वर्ष 2020 में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मार्केट कैप में 4.77 ट्रिलियन यानी 49.8 फीसदी का इजाफा हुआ है।
- 31 दिसंबर, 2019 को कंपनी का कुल मार्केट कैप 9.59 ट्रलियन (09 लाख 59 हजार करोड़ रुपए था।
- मौैजूदा समय में कंपनी का मार्केट कैप 14.38 ट्रलियन हो गया है।
- बीएसई का मार्केट वर्ष 2020 में अब तक 7.7 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है।
- समान अवधि में लिस्टेड कंपनियों के मार्केट कैप में 5.3 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है।

यह भी पढ़ेंः- HDFC से लेकर SBI तक Moratorium पर क्या रखी RBI के सामने Demand?

पांच साल में पांच गुना बढ़ा मार्केट कैप
- 31 दिसंबर, 2014 को बीएसई में लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 98.36 ट्रिलियन था।
- समान अवधि में रिलायंस इंडस्ट्रीज की हिस्सेदारी 2.9 फीसदी थी।
- 2014 से अब तक रिलायंस के मार्केट कैप में करीब 5 गुना का इजाफा देखने को मिल चुका है।
- बीएसई के सेंसेक्स में अभी कंपनी का इंडेक्स वेट 16.7 फीसदी है जो 2020 की शुरुआत में महज 10.8 फीसदी था।

और मजबूत होगा रिलायंस
मीडिया रिपोर्ट में जानकारों का कहना है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास रिटेल और ऑयल कारोबार में हिस्सेदारी बेचने के ऑप्शन भी हैं। जिससे कंपनी के मार्केट कैप में और इजाफा देखने को मिल सकता है।जानकारों के अनुसार वित्त वर्ष 2022-23 में ग्लोबल इकोनॉमी में स्थिरता देखने को मिलेगी और रिफाइनिंग व केमिकल इंडस्ट्री में मार्जिन देखने को मिलेगा।

यह भी पढ़ेंः- June 2021 से लागू होगा बिना Hallmark के Gold Jewellery खरीदने और बेचने पर पाबंदी का नियम

रिलायंस के साथ जियो भी हुई कर्जमुक्त
बीते 7 महीनों में रिलायंस ने अपने आपको पूरी तरह से कर्जमुक्त कर लिया है। साथ जियो भी कर्ममुक्त हो चुकी है। इसकी वजह से है अप्रैल से जुलाई तक के बीच में जियो प्लेटफॉर्म ने ग्लोबली एक दर्जन से ज्यादा ग्लोबल डील की हैं। जियो प्लेटफॉर्म ने 33 फीसदी हिस्सेदारी बेचकर 1,52,056 करोड़ रुपए जुटाए हैं। वहीं कंपनी ने राइट्स इश्यू और इंवेस्टर्स ने कुल 212,809 करोड़ रुपए जुटा लिए हैं।

नए कीर्तिमान बनाता कंपनी का शेयर
रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर रोजाना नए कीर्तिमान बना रहा है। अगर बात आज ही करें तो कंपनी का शेयर 2168.45 रुपए प्रति शेयर पर कारोबार कर रहा है। जबकि आज कंपनी का शेयर 2163.80 रुपए पर खुला था। कारोबार के दौरान 2179 रुपए के साथ आज के उच्चतम स्तर पर पहुंचा था। जबकि 2198.70 रुपए प्रति शेयर के साथ 52 हफ्तों का उच्चतम स्तर है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned