पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के दिन रिकॉर्ड स्तर पर जाता है शेयर बाजार, ये रहा दिलचस्प आंकड़ा

पूर्ण बहुमत की सरकार बनने के दिन रिकॉर्ड स्तर पर जाता है शेयर बाजार, ये रहा दिलचस्प आंकड़ा

Ashutosh Kumar Verma | Publish: May, 23 2019 10:52:52 PM (IST) बाजार

  • पूर्ण बहुमत में निवेशकों का रहता है शेयर बाजार के प्रदर्शन पर भरोसा।
  • साल 2014 में भी सेंसेक्स-निफ्टी में रही थी रिकॉर्ड तेजी।
  • अल्पबहुमत में बिकवाली रहती है हावी।

नई दिल्ली। कहते हैं कि इतिहास खुद को जरूर दोहराता है। आज 17वें लोकसभा चुनाव 2019 ( Loksabha Election ) भी कुछ इसी तरह का साबित हुआ। भाजपा की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक दल ( NDA ) एक बार फिर प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बनाने के लिए तैयार है। भाजपा ( Bharatiya Janta Party ) की इस अप्रत्याशित जीत के साथ शेयर बाजार ने भी अपने इतिहास को दोहराया है। साल 2014 में एनडीए के बहुमत के समय भी घरेलू शेयर बाजार में जबरदस्त तेजी देखने को मिली। यही नहीं, जब भी भारत में पूर्ण बहुमत वाली स्थिर सरकार बनती है तो घरेलू शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी देखने को मिलती है। आज से ठीक पांच साल पहले जब भाजपा ने पूर्ण बहुमत हासिल किया था, उस दौरान भी सेंसेक्स व निफ्टी में जोरदार तेजी देखने को मिली।

यह भी पढ़ें - मोदी की जीत से बाजार में आई बहार, Mutual Fund और SIP में निवेश करने पर मिलेगा 40 फीसदी तक का रिटर्न

क्यो पूर्ण बहुमत के दौरान बेहतर होता शेयर बाजार का प्रदर्शन

पूर्ण बहुमत की सरकार के दौरान सेंसेक्स-निफ्टी में इस तेजी का सबसे बड़ा कारण नई सरकार में निवेशकों का भरोसा होता है। शेयर बाजार से जुड़े कई जानकारों का भी यही कहना है कि पूर्ण बहुमत की सरकार में इस बात के भरपूर मौके होते हैं कि सरकार अपनी नीतियों के साथ समझौता नहीं करेगी। अर्थव्यस्था का प्रदर्शन भी बेहतर होता है और इस वजह से बाजार में अधिक उतार-चढ़ाव नहीं देखने को मिलता है। आज हम आपको इस रिपोर्ट में यह बताएंगे कि पूर्ण बहुमत के दौरान शेयर बाजार का क्या प्रदर्शन रहा। साथ में, हम आपको अल्पबहुमत के सरकारों के दौरान भी शेयर बाजार में प्रदर्शन के बारे में जानकारी देंगे।

यह भी पढ़ें- मोदी सरकार ने बनाया नया रिकॉर्ड, पहली बार GST लागू करने वाली सरकार सत्ता में आई वापस

BSE

2014 के इतिहास को इस साल भी दोहराया

साल 2014 में जब भारतीय जनता पार्टी का पूर्ण बहुमत मिली थी तो घरेलू शेयर बाजार की शुरुआत भी शानदार रही थी। 16 मर्इ 2014 काे चुनावी नतीजों के दिन बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज पर सेंसेक्स 24,271.54 के स्तर पर खुला। इसी दिन सेंसेक्स करीब 1,470 अंक चढ़कर 25,000 के स्तर पर का पार करते हुए 25,375 के रिकाॅर्ड सतर पर पहुंचा। इस दिन सेंसेक्स 23,873 के न्यूनतम स्तर पर पहुंचा था। दिनभर के कारोबार के बाद सेंसेक्स 24,121 के रिकाॅर्ड स्तर पर बंद हुआ। निफ्टी 50 में भी इस दौरान रिकाॅर्ड कारोबार देखने को मिला आैर यह 7563.50 के रिकाॅर्ड स्तर तक पहुंच गया था।

NSE

अल्पबहुमत वाली सरकार पर कम होता है निवेशकों का भरोसा

अल्पबहुमत वाली सरकारों में शेयर बाजार में कुछ खास प्रदर्शन नहीं देखने को मिलता है। 18 मर्इ 2009 को सेंसेक्स 13,479 के स्तर पर खुला। हालांकि, इस दिन भी सेंसेक्स 14,284 के रिकाॅर्ड स्तर पर पहुंचा। इस दिन पूरे दिन के कारोबारी सत्र के बाद सेंसेक्स 14,284 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, 2004 के कारोबारी सत्र की बात करें तो इस चुनावी नतीजों के दौरान सेंसेक्स में 6 फीसदी लुढ़का। अगले कारोबारी दिन यह गिरावट बढ़कर 11 फीसदी हो गर्इ थी। इस दिन सेंसेक्स 5,409.34 के स्तर पर खुला आैर 5,069.87 के स्तर पर बंद हुआ था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned