गिरिराज जी पर किया जा रहा पक्का निर्माण रुका, NGT ने तलब किए भरतपुर के अधिकारी

गोवर्धन परिक्रमा मार्ग पर राजस्थान सीमा में गिरिराज जी के किनारे एनजीटी की फटकार के बाद पक्का निर्माण रोक दिया गया है।

By: अमित शर्मा

Published: 22 Mar 2018, 07:02 PM IST

मथुरा। राजस्थान सीमा के ग्राम पूंछरी के अंतर्गत गिरिराज महाराज की तलहटी में एनजीटी के आदेश के बाद गुरूवार को भरतपुर प्रशासन व निर्माणदायी संस्था हरकत में नजर आए।एनजीटी में अपनी जवाबदेही देने से पूर्व गिरिराज जी की बिखरी हुई शिलाओं को एक जगह रखा गया। जहां दो दिन पहले पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा जेसीबी व ट्रैक्टर लगाकर गिरिराज की शिलाओं के बीच गहरे-गहरे गड्ढे किये जा रहे थे वहीं अब विभाग द्वारा मजदूर लगाकर कार्य कराया जा रहा है। अब पक्के निर्माण की इंटरलाॅकिंग ईंटों को हटा दिया गया है। तलहटी की परिक्रमा में ब्रजरज की अनुभूति प्रदान करने के लिए मिट्टी बिछाई गई है। कच्चे परिक्रमा मार्ग में भी विशेष सफाई कराई गई। दिनभर विभागीय अधिकारी मशक्कत में जुटे रहे।

 


ये है मामला

गिरिराज जी पूंछरी की परिक्रमा में राजस्थान सरकार की विशेष योजना में विकास कार्य कराये जा रहे हैं। योजना में बाहरी परिक्रमा में सीसी सड़क तैयार हो गई है जबकि इंटरलाॅकिंग कार्य व कच्चा फुटपाथ भी बनाया जाना है। गोवर्धन बाईपास तक भी परिक्रमा को जोड़ने के लिए सीसी बना दी गई है। विकास की योजना में कार्यदायी संस्था पीडब्ल्यूडी विभाग भरतपुर द्वारा गिरिराज जी सटे तलहटी के अंदर परिक्रमा मार्ग को भी पक्का किया जाने लगा इतना ही नहीं बड़े-बड़े स्वागत द्वार बनाने के लिए जेसीबी लगाकर गहरे-गहरे गड्ढे खोद दिये गये। जबकि एनजीटी न्यायालय में विचाराधीन याचिका संख्या 2229/2013 गिर्राज संरक्षण संस्थान बनाम पर्यावरण विभाग व अन्य पर गिरिराज जी के किनारे परिक्रमा मार्ग में पक्का निर्माण कार्य प्रतिबंधित है। एनजीटी न्यायालय ने चार अगस्त 2015 को 17 बिन्दुओं के अनुपालन के आदेश प्रशासन को दिये थे। आदेश के क्रम में सांवई ग्राम पंचायत के नोटिश बोर्ड भी लगे हैं कि यहां पक्का निर्माण प्रतिबंधित है। इसके बाद भी भरतपुर प्रशासन की ओर से विकास की योजना में तलहटी से सटकर दो स्वागत द्वार व इंटरलाॅकिंग कार्य किया जाने लगा। इस पर नेशनल कमेटी आॅफ कृष्णा सर्किट के चेयरमैन सत्यप्रकाश मंगल व आनंद बाबा द्वारा संयुक्त रूप एनजीटी न्यायालय को अवगत कराया गया। इसके बाद तुरंत भरतपुर के अधिकारियों को दिल्ली तलब किया और काम को रोक दिया गया।

 


एनजीटी न्यायालय में देनी होगी रिपोर्ट

गिरिराज जी की शिलाओं को सम्मान पूर्वक रखे जाने और परिक्रमा मार्ग के विकास की योजना को लेकर भरतपुर प्रशासन को 23 मार्च को एनजीटी न्यायालय बुलाया है। इस मामले में एनजीटी न्यायालय में जज रघुवेन्द्र एस राठौर की अध्यक्षता में भरतपुर प्रशासन व निर्माणदायी संस्था को आदेश दिये हैं। आदेश के अनुपालन में जिला कलैक्टर भरतपुर एन.के. गुप्ता, एसडीएम डीग दुलीचंद मीणा, सुपरिंटेंडेंट भरतपुर एनके जोशी, काॅनक्टर भरतपुर योगेश चौधरी, पीडी आशाराम सैनी, सहायक इंजीनियर डीग सतीश कुमार, सचिव ग्राम पंचायत कीर्ति जोशी, डीएफओ भरतपुर जोगेन्द्र्र सिंह, आरओ पीके भारद्वाज को नोटिश दिया है।

अमित शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned