Ganga Dussehra 2020: 1 June को है गंगा दशहरा, Lockdown में घर पर रहकर राशि अनुसार इस तरह करें पूजा व स्नान

Highlights

  • जयेष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को मनाया जाता है Ganga Dussehra 2020
  • इस साल Monday को पड़ेगा गंगा दशहरे का पर्व
  • Lockdown के कारण गंगा जी में स्नान करना होगा नामुमकिन

 

By: sharad asthana

Updated: 28 May 2020, 10:46 AM IST

मेरठ। जयेष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी को गंगा दशहरे (Ganga Dussehra) का पर्व मनाया जाता है। इस वर्ष 2020 में गंगा दशहरा 1 जून (June) यानी सामेवार (Monday) को मनाया जाएगा। माना जाता है कि गंगा दशहरे के दिन किसी भी पवित्र नदी पर जाकर स्नान, ध्यान तथा दान करने से सभी पापों से मुक्ति मिलती है। लॉकडाउन (Lockdown) के इस दौर में बाहर जा पाना तो मुमकिन नहीं है। ऐसे में शिवनेत्र एस्ट्रोलॉजी के सुकुल शर्मा हमें बता रहे हैं कि किस तरह घर पर ही अपनी राशि (Rashi) अनुसार पूजा करें।

मेष (Aries) राशि— इस राशि के जातक प्रातः उठकर स्नान के पानी में लाल रोली और गंगा जल डालकर मां गंगा का स्मरण करते हुए स्नान करें। पूजा में लाल वस्त्र धारण करके 108 बार इस मंत्र का जाप करें। ॐ नमो गंगायै विश्वरुपिणी नारायणी नमो नम:। मां गंगा के लिए एक लाल साड़ी भी उढ़ाएं। किसी अमावस्या पर पंडित जी को दान कर दें।

वृष (Taurus) राशि— गंगा जल पानी में डालें तथा कच्चा दूध डालकर स्नान करें। पूजा में पंचामृत बनाकर इस मंत्र का 108 बार जाप करें। ‘ऊँ नमो भगवते एं ह्रीं श्रीं हिलि हिलि मिलि मिलि गंगे मां पावय स्वाहा’ जप करते हुए 10 फूल अर्पित करें। पूजा में जिस भी सामग्री का प्रयोग हो, वह संख्‍या में 10 होनी चाहिए। जैसे 10 दीये, 10 तरह के फूल, 10 दस तरह के फल आदि। पंचामृत घर में सभी को प्रसाद रूप में बांटें।

मिथुन (Gemini) राशि— गंगाजल पानी में डालें और थोड़ी दूब घास डालकर स्नान करें। पूजा में बैठकर ओम नम: शिवाय नारायण्ये दशहराये गंगाये स्वाहेति का 108 बार जाप करें। कोई हरी मिठाई, इलायची आदि से भोग लगाएं।

कर्क (Cancer) राशि: थोड़े काले तिल पूजा स्थान में रखें और तिल के तेल के 5 दीपक जलाएं। बताशे और दूध का भोग लगाएं। आटे की लोई बनाकर काले कुत्ते को डालें तथा पूजा में 108 इस मंत्र का जाप करें। ओम भगवते दशपापहराये गंगाये नारायण्ये रेवत्ये शिवाये दक्षाये अमृताये विश्वरुपिण्ये नंदिन्ये ते नमो नम:। अंत में काले तिल जल में डालकर सूर्य को जल अर्पित करें।

सिंह (Lion) राशि— इस राशि के जातक गंगा जल और लाल कनेर का फूल डालकर स्नान करते हुए मां गंगा का मंत्र उच्चारण करें। गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु। पूजा में भगवान शिव का चित्र जिसमें मां गंगा भी हों, लगाए। इस मंत्र का वर्ष भर जाप करना इस राशि के जातकों को अधिक शुभ रहेगा।

यह भी पढ़ें: Ganga Dussehra 2020: 520 साल बाद बन रहे 10 विलक्षण योग, Lockdown के दौरान ऐसे करें गंगा स्नान

कन्या (Virgo) राशि— इस राशि के जातक घर पर गंगा जल डालकर स्नान करें। हरे वस्त्र धारण करें। 5 घी के दीपक मां गंगा के चित्र के आगे प्रजवल्लित करके गंगा स्त्रोत का पाठ करे। सफेद मिष्ठान का भोग लगाएं। सफेद फूल मां गंगा जी को अर्पित करें।

तुला (Libra) राशि— इस राशि के जातक गंगा जल में शहद और चुटकी भर चीनी या गन्ने का रस डालकर स्नान करें। 11 बेल पत्र पर लाल रोली से मंत्र लिखें, ॐ विं विष्णवे नमः और तुलसी जी के पास रख आएं। सफेद वस्त्र धारण करके मां गंगा जी की आरती करें।

वृश्चिक (Scorpio) राशि— इस राशि के जातक पानी में गंगा जल डालें। 5 पत्ते बेलपत्र के डालें और स्नान करें। पूजा में एक हाथ में गंगा जल, पीले फूल चावल लेकर समस्त गंगा नदियों का ध्यान करते हुए हाथ से जल शिवलिंग पर छोड़ें। अंत में बेल का भोग लगाएं और उसका रस प्रसाद रूप में घर में बांटें।

धनु (Sagittarius) राशि— इस राशि के जातक पीली हल्दी, पीले फूल तोड़कर व गंगा जल डालकर स्नान करें। रात की रानी के फूल भगवान शिव चित्र, जिसमें मां गंगा भी हों, अर्पित करें और थोड़ा इत्र पूजा स्थान पर छिड़क दें। इस मंत्र का 108 बार जाप करें।
गंगा सरस्वती सिंधु ब्रह्मपुत्र,क्षिप्रा च गंडकी
कावेरी यमुना रेवा नर्मदा गोदावरी महानदी।।

मकर (Capricorn) राशि— इस राशि के जातक गंगा जल के 11 चम्मच जल पानी में इस मंत्र को बोलते हुए डालें, ओम नमामी गंगे। पूजा स्थान में 5 बताशे, 5 बेलपत्र, 5 फल, 5 तुलसी के पत्ते मां गंगा को स्पर्श कराएं। सफेद वस्त्र का दान किसी भी सोमवार को गरीब को दान स्वरूप दें। अंत में मां गंगा जी की आरती गाएं।

कुंभ (Aquarious) राशि— इस राशि के जातक गंगा जल डालकर और नीले फूल डालकर महा मृत्युंजय मंत्र का जाप करते हुए स्नान करें। पूजा में गंगा जी की आरती करें। सफेद खीर बनाकर गाय को खिलाएं।

मीन (Pisces) राशि— इस राशि के जातक गंगा जल में एक चुटकी केसर या पीली हल्दी डालकर मां गंगा जी का ध्यान करते हुए स्नान करें। पूजा में 5 फल रखकर भगवान शिव की उपासना करें। पूरब दिशा की ओर मुख करके सूर्य भगवान को जल अर्पित करें।

sharad asthana
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned