गोरखपुर आैर फूलपुर उप उचुनाव की पटकथा तो मेरठ के मेयर चुनाव ने ही लिख दी थी...

गोरखपुर आैर फूलपुर उप उचुनाव की पटकथा तो मेरठ के मेयर चुनाव ने ही लिख दी थी...

sanjay sharma | Publish: Mar, 14 2018 05:22:27 PM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 05:26:11 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

मेरठ निकाय चुनाव में दलित-मुस्लिम गठजोड़ से ही मेयर बनी थी बसपा की सुनीता वर्मा

 

 

मेरठ। बसपार्इ उत्साहित हैं आैर मिठाइयां बांट रहे हैं। यही हाल है सपाइयों का भी। सपा-बसपा गठबंधन ने गोरखपुर आैर फूलपुर लोक सभा उप चुनाव में शानदार जीत हासिल करके प्रदेश के राजनीतिक गलियारों में नया मैसेज दिया है। दलित आैर मुस्लिम गठबंधन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गढ़ में अपना वर्चस्व स्थापित किया है, उससे नर्इ बहस शुरू हो गर्इ है। वैसे दलित आैर मुस्लिम गठजोड़ ने गोरखपुर आैर फूलपुर लोक सभा उप चुनाव के परिणाम की पटकथा तो पिछले साल प्रदेश में हुए निकाय चुनाव में मेरठ के मेयर चुनाव ने ही लिख दी थी। इस चुनाव में भी दलित आैर मुस्लिम गठजोड़ ने भाजपा की बेहद मजबूत उम्मीदवार कांता कर्दम को पराजित कर बसपा की सुनीता वर्मा को मेयर बनवा दिया था। मेयर पद पर हार के बाद दलित-मुस्लिम गठजोड़ से भाजपा हार्इकमान में सनसनी फैल गर्इ थी। फूलपुर आैर गोरखपुर लोक सभा उप चुनाव में भी कमोबेश यही हुआ है। इस बार सपा आैर बसपा के गठबंधन के बाद यह गठजोड़ आैर मजबूत हो गया आैर दोनों सीटों पर भाजपा को पराजय झेलनी पड़ी।

यह भी पढ़ेंः कुख्यात तमंचे के बल पर पुत्रवधू को ले गया अपने साथ...आैर दो दिन तक...!

लोक सभा चुनाव के लिए बड़ा मैसेज

बसपा के वरिष्ठ नेता सुनील वाधवा का कहना है कि गोरख पुर व फूलपुर के परिणाम सपा-बसपा गठबंधन के खाते में जाने के बाद पूरे प्रदेश की राजनीति में बड़ा मैसेज गया है। यह मैसेज अगले लोक सभा चुनाव में निर्णायक भूमिका निभाएगा, क्योंकि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ का अपना क्षेत्र है। इससे बड़ा मैसेज कोर्इ नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि मेरठ में मेयर पद पर चुनाव के लिए जिस तरह से दलित-मुस्लिम गठबंधन ने भाजपा के मजबूत इरादों को झटका दिया था, उसी तर्ज पर लोक सभा उप चुनाव की दोनों सीटों पर चुनाव लड़ा गया। निषाद व पटेल समाज के उम्मीदवारों की अपनी छवि के साथ-साथ दलित व मुस्लिम वोट बैंक का जबरदस्त फायदा मिला है। ये परिणाम आने वाले देश व प्रदेश की राजनीति के लिए बड़ा मैसेज है।

यह भी पढ़ेंः पाॅश कालोनी से लगे होटल 'सारा' का रूम नंबर 105 खुला, तो सबने पकड़ लिया माथा

व्यापारी हो रहे हैं परेशान

बसपा नेता का कहना है कि भाजपा सरकारों के कारण व्यापारी वर्ग जीएसटी से बेहद परेशान है। यही वजह है कि उपचुनाव में व्यापारी वर्ग भी भाजपा के नाराज था। चुनाव में व्यापारी वर्ग का भी साथ मिला।

यह भी पढ़ेंः 'शो स्टाॅपर' के लिए बुलार्इ माॅडल ने दिखाया कुछ एेसा, सबकी खुल गर्इ आंखें, शुरू करवा दी नर्इ बहस

 

 

 

 

Ad Block is Banned