बागपत से लोहा व्यापारी के अपहरणकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बागपत से लोहा व्यापारी के अपहरणकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Iftekhar Ahmed | Publish: Sep, 03 2018 03:35:07 PM (IST) Baghpat, Uttar Pradesh, India

अपहरण की मुख्य साजिशकर्ता है दिल्ली पुलिस का सिपाही

बागपत. जनपद के बड़ौत कोतवाली क्षेत्र के सराय रोड दो माह पूर्व 50 लाख की रंगदारी के लिए हुए लोहा व्यापारी के अपहरण मामले में कोतवाली पुलिस और एसओजी की टीम को बडी क़ामयाबी हाथ लगी है। इस मामले में पुलिस ने 4 अपहरणकर्ताओं को असलहों के साथ गिरफ़्तार किया है। अपहरण की वारदात का मास्टरमाइंड दिल्ली पुलिस का एक सिपाही बताया जा रहा है, जिसने अपने 9 साथियों के साथ मिलकर अपहरण की वारदात को अंजाम दिया था। दरअसल, दिल्ली पुलिस के इस सिपाही को जल्द अमीर बनने की चाह थी। हालांकि, व्यापारी को तो अपहरणकर्ताओं ने उस दिन छोड़ दिया था, लेकिन उस पर तभी से रंगदारी का दबाव बना रहे थे। फ़िलहाल, पुलिस ने 4 आरोपियों को तो गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही घटना के लिए जिम्मेदार मास्टरमाइंड सिपाही और बाकी फरार आरोपियों की जल्द गिरफ़्तारी करने का दावा पुलिसाधिकारी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- इस शहर में 22 स्थानों पर दिन-रात बेधड़क होती है चोरी, किसी में शिकायत की भी नहीं है हिम्मत

मामला बड़ौत कोतवाली क्षेत्र का है। अपहरण की यह वारदात 12 जुलाई 2018 की है, जब हारून नाम के एक लोहा व्यापारी का कुछ बदमाशों ने उस समय अपहरण कर लिया था, जब वह अपनी कार से मेरठ -सराय हाई-वे से होते हुए जा रहे थे। अपहरण की वारदात को दिनदहाड़े पुलिस की वर्दी में अंजाम दिया गया था। पहले तो शक था कि शायद किसी और जनपद की क्राइम ब्राच टीम व्यापारी को ले गई हो, पुलिस इस पहेली में उलझी ही थी तभी हारून की लोकेशन गाजियाबद के मसूरी में ट्रेस की गई। इसके बाद बाद पुलिस टीम जब डासना पहुंची तो बदमाश व्यापारी को छोड़कर फरार हो गए थे। पुलिस लोहा व्यापरी हारून को सकुशल बरामद कर लाई थी, लेकिन बदमाश लगातार उस पर 50 लाख की रंगदारी का दबाव बना रहे थे। पुलिस की तफ़्तीश भी जारी थी और पुलिस ने कुछ दिन बाद कादिर नाम के एक युवक को गिरफ्तार कर लिया और उसके बाद पुलिस बाकी लोगों की तलाश में जुट गई। आखिरकर पुलिस को क़ामयाबी मिली और पुलिस ने 4 और अपहरणकर्ताओं को दबोच लिया। जहां पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि पूरी साजिश का मास्टर माइंड दिल्ली पुलिस का एक सिपाही रविन्द्र ढाका है, जो मूलतः बागपत के थाना चाँदीनागर क्षेत्र का रहने वाला है और फिलहाल दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में रहता है। रविन्द्र जल्द ज्यादा दौलत हासिल करना चाहता था, जिसके लिए उसने इस साजिश को रचा और इस साजिश में अपने अलावा 9 और लोगों को शामिल किया, जो दिल्ली-गाजियाबाद के रहने वाले हैं। इनमें से पुलिस ने एक कादिर को पहले ही जेल भेज दिया था, जबकि चार आरोपी अमीर, वसीम, असलम और अरमान को गिरफ्तार कर मास्टरमाइंड सिपाही रविन्द्र ढाका , नदीम ,निज़ाम , राहुल और एक अन्य फरार है की तलाश तेज कर दी है।

Ad Block is Banned