भाजपा के इस फायरब्रांड विधायक के मुकदमे होंगे वापस, शासन ने मांगी रिपोर्ट

भाजपा के इस फायरब्रांड विधायक के मुकदमे होंगे वापस, शासन ने मांगी रिपोर्ट

Sanjay Kumar Sharma | Updated: 14 Aug 2019, 11:48:12 AM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

खास बातें

  • विधायक संगीत सोम के 2003 से 2017 तक के सात मुकदमे होंगे वापस
  • प्रदेश शासन के विशेष सचिव ने संबंधित जनपदों से मांगा पूरा ब्योरा
  • मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर और गौतमबुद्ध नगर में दर्ज हैं सात मुकदमे

मेरठ। सरकारें बनने और बिगडऩे पर सबसे ज्यादा खामियाजा नेताओं को भुगतना पड़ता है। कुछ पर राजनैतिक द्वेषभाव के चलते मुकदमे दर्ज होते हैं तो कुछ पर उसके बढ़ते प्रभाव के कारण। वेस्ट यूपी के फायरब्रांड भाजपा विधायक संगीत सोम पर भी सपा और बसपा कार्यकाल में सहारनपुर और मुजफ्फरनगर में मुकदमे दर्ज किए गए थे। अब भाजपा सरकार अपने इस विधायक पर दर्ज मुकदमों को वापस लेेने की तैयारी कर रही है। संगीत सोम पर वर्ष 2003 से 2017 के बीच मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, मेरठ और गौतमबुद्धनगर में कुल सात मुकदमे दर्ज हैं। इनमें मुजफ्फरनगर दंगे के दौरान, सहारनपुर और नोएडा में पंचायत करके धारा 144 का उल्लंघन तथा सरधना से कैराना के लिए पैदल मार्च निकालने पर दर्ज किया गया मुकदमा भी शामिल है।

यह भी पढ़ेंः Independence Day 2019: गांधी जी यूपी के इस शहर में रुके थे 8 दिन और हिलाकर रख दी थी ब्रिटिश हुकूमत

ढाई साल में वापस लिए सैकड़ों मुकदमे

प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद से भाजपा नेताओं और जनप्रतिनिधियों पर दर्ज तमाम ऐसे मुकदमे वापस लिए जा चुके हैं। ये मुकदमे बसपा और सपा सरकार के कार्यकाल में उनके खिलाफ दर्ज हुए थे। इस सूची में संगीत सोम का नाम भी है। उनके खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा, सरकारी आदेश (धारा 144) की अवज्ञा, जाम लगाना, बवाल करना, शहर में दहशत फैलाना, आईटी एक्ट तथा लोक प्रतिनिधित्व अधिनियिम की धाराओं में दर्ज मामले शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः पौधारोपण का रिकार्ड बनाकर विभाग भूल गए अपनी जिम्मेदारी, तीन दिन बाद ही पौधों की ये स्थिति, देखें वीडियो

इन थानों से मांगी गई रिपोर्ट

भाजपा विधायक संगीत सोम के खिलाफ मुजफ्फरनगर के खतौली, कोतवाली, सिखेड़ा, मेरठ के सरधना, सहारनपुर के देवबंद और गौतमबुद्धनगर के थाना बिसाहड़ा में मुकदमा दर्ज हैं। प्रदेश शासन के विशेष सचिव राम बिलास सिंह ने संबंधित जनपदों से रिपोर्ट मांगी है। संबंधित थाने, एसएसपी, अभियोजन और जिला प्रशासन इसे तैयार करने में जुटे हैं। शासन ने सभी मामलों में अपराध की धाराएं, न्यायालय का नाम, वाद के तथ्य, वादी की चोटों का विवरण, विवेचना के दौरान बरामदगी, न्यायालय में मुकदमे की वर्तमान स्थिति, क्रास केस की स्थिति पूछी है। साथ ही केस डायरी में उपलब्ध साक्ष्यों का परीक्षण अभियोजन अधिकारी से करा अभियोजन की सफलता और दुर्बलता का पूर्ण विवरण स्पष्ट रूप से उपलब्ध कराने को कहा गया है। शासन ने जल्द से जल्द सभी संबंधित थानों और जिलों से रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा है। इस बारे में जब संगीत सोम से बात की गई तो उनका कहना था कि यह सब शासन स्तर से हो रहा है। उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned