लद्दाख में 10 नई मौसम वेधशालाएं स्थापित होंगी, चीन की नापाक हरकतों को मिलेगा करारा जवाब

Highlights

  • सेना को मौसम की सटीक भविष्यवाणी से फायदा मिलेगा।
  • मौसम विभाग की ओर से रेडियेशन, पोल्यूशन और ओजोन यूनिट भी स्थापित होंगी।

नई दिल्ली। लेह में मौसम विभाग ऐसा ढांचा तैयार कर रहा है, जिससे वातावरण में हो रहे बदलाव की सही जानकारी सामने आएगी। पूरे लद्दाख में 10 नई मौसम वेधशालाएं स्थापित करी जाएंगी। अफसरों के अनुसार इस तरह से हर कोने का सही डाटा मिल सकेगा। मौसम की सटीक भविष्यवाणी से फायदा मिलेगा।

मौसम विभाग के एक अधिकारी के अनुसार लद्दाख में मौसम की सटीक भविष्यवाणी के लिए एक सेटअप तैयार किया जा रहा है। इसे यहां पर पहले से मौजूद डॉप्लर रडार भी इंस्टाल किया जाएगा। इससे मौसम की हर हरकत जानकारी मिल सकेगी।अधिकारी के अनुसार रडार की खासियत है कि यह आधे घंटे से कम समय के भीतर मौसम में होने वाले बदलावों को पकड़ सकता है।

कांग्रेस नेता Ahmed Patel का 71 की उम्र में कोरोना वायरस से निधन, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक

उन्होंने बताया कि लद्दाख में इस वक्त केवल तीन जगहों लेह,कारगिल और द्रास में वैदर ओबजरवेट्री हैं। अब पूरे या पर 10 और वैदर ओबजरवेट्री स्थापित की जा रही हैं। इनमें जंसकार, पर्चिक, संकू, न्योमा, तुर्तुक, नोबरा, पंगू आदि जगहों को चुना गया है। इतना ही नहीं लेह में मौसम विभाग की ओर से रेडियेशन, पोल्यूशन और ओजोन यूनिट भी स्थापित की जाएंगी।

विशेषज्ञों के अनुसार इस ढांचे से आम लोगों के साथ यहां पर तैनात सेना को भी मदद मिल सकेगी। मौसम की भविष्यवाणी के अभाव में कई बार जवानों को समस्या का सामना करना पड़ता था। मौसम विभाग के अनुसार इस व्यवस्था से सेना को मौसम की हर जानकारी समय पर मिल सकेगी।

सटीक भविष्यवाणी से फायदा

मौसम विभाग की ओर से जम्मू और बनिहाल में भी एक्स-बैंड रडार इंस्टाल किए जा रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू में आने वाले कुछ सप्ताह के दौरान यह कार्य पूरा किया जाएगा, जबकि बनिहाल में थोड़ा समय लगेगा। इस किसानों को भी काफी मदद मिल सकेगी।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned