धोखाधड़ी, विश्वासघात और रिश्वत लेने का आरोप झेल रहे बेंजामिन ने कोर्ट में खुद को बताया निर्दोष

Highlights.
- प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ इजराइल की यरुशलम की कोर्ट में सुनवाई चल रही है
- उन पर गत वर्ष मई में मुकदमा शुरू हुआ था, लॉकडाउन के कारण पिछले महीने सुनवाई रोक दी गई थी
- सोमवार को सुनवाई फिर शुरू हुई, बेंजामिन ने खुद को निर्दोष बताते हुए इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है

 

नई दिल्ली।

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ उनके देश में भ्रष्टाचार के आरोपों में यरुशलम की कोर्ट में सुनवाई चल रही है। गत सोमवार को शुरू हुई इस सुनवाई के पहले चरण में ही बेंजामिन ने खुद को सभी मामलों में निर्दोष बताया है।

बता दें कि बेंजामिन नेतन्याहू पर गत वर्ष तीन अलग-अलग मामलों में धोखाधड़ी, विश्वासघात और रिश्वत लेने का आरोप लगा था। अगले कुछ हफ्तों में इजराइल में आम चुनाव होने हैं और कोर्ट का फैसला चुनाव परिणाम पर काफी असर छोड़ सकता है। हालांकि, इससे पहले ही इजराइल में बड़ी संख्या में लोग सडक़ों पर उतरे और बेंजामिन के इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन करने लगे। नेतन्याहू पर उनके देश में यह आरोप भी लग रहे हैं कि उन्होंने कोरोनाकाल में भी संकट का सही तरीके से मुकाबला नहीं किया।

इजराइल में नेतन्याहू के खिलाफ लोगों में इस कदर गुस्सा है कि सुनवाई के दौरान कोर्ट के बाहर भी बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हो गए थे। ऐसे में यह सवाल खड़े होना लाजिमी है कि बेंजामिन पर ऐसे कौन से आरोप है कि इजराइल के लोगों में उनके खिलाफ इस कदर गुस्सा है। दरअसल, बेंजामिन नेतन्याहू पर आरोप है कि उन्होंने अपने अमीर दोस्तों से महंगे उपहार लिए। इसके अलावा, मीडिया क्षेत्र के दिग्गजों को कई प्रलोभन भी दिए, जिससे मीडिया में उनके और उनके परिजनों के पक्ष में खबरों दिखाई जाएं। बेंजामिन के खिलाफ सुनवाई पहले से चल रही थी, लेकिन पिछले महीने लॉकडाउन की वजह से इसे स्थगित कर दिया गया था। सोमवार को एक बार फिर सुनवाई शुरू हुई है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि बेंजामिन नेतन्याहू का बतौर इजराइली प्रधानमंत्री कार्यकाल सबसे अधिक है, यानी वह सबसे लंबे समय तक इजराइल के प्रधानमंत्री पद पर रहे हैं। हालांकि, इसी के साथ उनके नाम एक और रिकॉर्ड है, वह यह कि प्रधानमंत्री पद पर रहने के दौरान वह भ्रष्टाचार के मामलों में फंसे और उनके खिलाफ मुकदमा चलाया गया।

बहरहाल, भ्रष्टाचार के मामलों में नेतन्याहू के खिलाफ पिछले साल मई में मुकदमा शुरू किया गया था। पहले भी वह खुद को निर्दोष बताते रहे हैं। सोमवार को शुरू हुई सुनवाई के दौरान भी बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को गलत बताया। उन्होंने अपने पद से इस्तीफा देने सेे भी इनकार किया है।

Prime Minister Narendra Modi
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned