चंद्रयान-2: चांद पर निकला दिन, सूरज की रोशनी लैंडर विक्रम में डालेगी नई जान!

चंद्रयान-2: चांद पर निकला दिन, सूरज की रोशनी लैंडर विक्रम में डालेगी नई जान!
,,

  • बड़ी खबर चंद्रमा पर आज से सूरज की रोशनी पड़नी हो गई शुरू
  • ISRO को नई उम्‍मीद- लैंडर विक्रम में फिर आ सकती है जान
  • लैंडर विक्रम में मौजूद सोलर पैनल फिर काम करना शुरू कर सकता है

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (ISRO) ने हाल ही में मिशन चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर द्वारा ली गईं चंद्रमा की तस्वीरें जारी की हैं।

चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर को मिल गई कामयाबी, चांद की सतह पर ढूंढा लिया...तस्वीर देखते ही झूम उठे...

चंद्रयान-2: ऑर्बिटर ने किया एक और कमाल, हर सैटेलाइट को पीछे कर हासिल की सफलता

ये तस्वीरें आर्बिटर में लगे पर स्थित ऑर्बिटर हाई रिजोल्यूशन कैमरा (ओएचआरसी) द्वारा खींची गई हैं। इस बीच बड़ी खबर यह सामने आई है कि चंद्रमा पर आज से सूरज की रोशनी पड़नी शुरू हो गई है।

 

ऐसे ISRO को एक बार फिर नई उम्‍मीद जगी है कि इससे लैंडर विक्रम में फिर जान आ सकती है।

इसरो वैज्ञानिकों का मानना है कि लैंडर विक्रम में मौजूद सोलर पैनल फिर काम करना शुरू कर सकता है।

बड़ी खबरः इसरो चीफ के सामने इस दिग्गज का खुलासा, विक्रम से संपर्क करने में यह सिस्टम बना परेशानी

a3.png

रिपोर्ट: चांद पर जमा हो गया कूड़े का ढेर, ऐसी चीजें छोड़ आते हैं अंतरिक्ष यात्री

आपको बता दें कि विक्रम लैंडर सोलर पैनल से लैस है। दरअसल, से सोलर पैनल सूरज की रोशनी के माध्यम से लैंडर की बैट्री को चार्ज करते हैं।

लेकिन 14 दिन बार चांद पर शुरू हुई रात होने के कारण वैज्ञानिकों में निराशा देखने को मिली है। अब जबकि आज से चांद पर दिन शुरू हो रहा है।

ऐसे में वैज्ञानिकों का मानना है कि सूरज की रोशन एक बार फिर लैंडर में नई जान फूंक सकती है, जिससे उससे एक बार फिर संपर्क साधने में मदद मिलेगी।

बज एल्ड्रिन से हो गई थी यह भूल, बने चांद पर टॉयलेट करने वाले पहले शख्स

a2.png

वहीं, इसरो के अनुसार, ऑर्बिटर ने चंद्रमा की सतह से 100 किलोमीटर की ऊंचाई से ली गईं ये तस्वीरें चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र में स्थित बोगस्लावस्की ई क्रेटर और उसके आस-पास की हैं। इसका व्यास 14 किलोमीटर और गहराई तीन किलोमीटर है।

चांद की सतह पर हैं इंसानी पैरों के निशान, इन जांबाजों ने रच डाला था इतिहास

a4.png
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned