चंद्रयान-2: नोबेल प्राइज विनर साइंटिस्ट का दावा, ISRO निकाल लेगा मून लैंडर समस्या का हल!

चंद्रयान-2: नोबेल प्राइज विनर साइंटिस्ट का दावा, ISRO निकाल लेगा मून लैंडर समस्या का हल!

  • नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक सर्जे हरोशे का चंद्रयान-2 को लेकर बड़ा बयान
  • ISRO निश्चित ही अपने पहले मून लैंडर की समस्या को दूर करने का प्रयास करेगा

नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार विजेता फ्रांस के वैज्ञानिक सर्जे हरोशे ने चंद्रयान-2 को लेकर बड़ा बयान दिया है।

उन्होंने बुधवार को कहा कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र ( ISRO ) निश्चित ही अपने पहले मून लैंडर की समस्या को दूर करने का प्रयास करेगा।

हरोशे के मुताबिक विज्ञान ने हमेशा ही मानव समान को हैरान किया है। विज्ञान में हमें कभी सफलता मिलती है तो कभी असफलता हाथ लगती है।

NASA की मदद के बाद भी नहीं हुआ 'विक्रम' से संपर्क, इसरो प्रमुख बोले— अगले मिशन पर करें फोकस

a2_1.png

आपको बता दें कि 75 वर्षीय हरोशे ने कहा कि उनको नहीं पता कि आखिर मून लैंडर विक्रम के साथ वास्तव में हुआ क्या? लेकिन इसरो निश्चित ही समस्या का हल निकालने का प्रयास करेगा।

उन्होंने कहा कि विज्ञान में हमें हमेशा आशावादी रहने चाहिए, क्योंकि इसमें कभी कामयाबी हाथ लगती है तो कभी नाकामयाबी।

आपको बता दें कि हरोशे 2012 के नोबेल पुरस्कार विजेता हैं।

चंद्रयान 2: सोशल मीडिया पर वायरल इसरो के ‘विक्रम लैंडर’ की इस तस्वीर का क्या है सच?

b.png

हरोशे ने कहा कि चंद्रयान-2 को लेकर एक समस्या यह भी थी कि यह प्रोकेक्ट काफी चर्चित हो गया था और इससे लोगों को बहुत अधिक उम्मीदें थीं।

यह वजह है कि इसरो से लैंडर का संपर्क टूटने के बाद बड़े पैमाने पर निराशा हाथ लगी।

आपको बता दें कि 22 जुलाई को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष सेंटर से मिशन चंद्रयान-2 लॉंच किया गया था।

मिशन के अंतर्गत 6 सितंबर की रात को चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराई जानी थी, लेकिन अचानक इसरो से उसका संपर्क टूट गया।

चंद्रयान-2: चांद पर हीलियम-3 को तलाशने गया था लैंडर विक्रम, पूरी दुनिया की ऊर्जा जरूरत हो सकती है पूरी

b1.png

चंद्रयान 2: लैंडर विक्रम से संपर्क साधने में जुटा ISRO, माइनस 200 डिग्री सेल्सियस का क्या होगा असर?

बाद में जांच में पाया गया कि लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं कराई जा सकती और वह चांद की चांद की सतह पर तय सीमा से 400 मीटर दूर जाकर गिरा है।

इस बात का खुलासा चंद्रमा के चक्कर काट रहे चंद्रयान के आर्बिटर ने किया है।

आर्बिटर ने अंतरिक्ष से लैंडर विक्रमकी जो तस्वीर भेजी है, उससे उसकी लोकेशन का पता चला है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned