चंद्रयान-2: चांद पर हीलियम-3 को तलाशने गया था लैंडर विक्रम, पूरी दुनिया की ऊर्जा जरूरत हो सकती है पूरी

चंद्रयान-2: चांद पर हीलियम-3 को तलाशने गया था लैंडर विक्रम, पूरी दुनिया की ऊर्जा जरूरत हो सकती है पूरी
,,

  • ISRO ने दावा किया है कि चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने मून लैंडर विक्रम का पता लगा लिया
  • चंद्रयान 2 को चंद्रमा में हीलियम-3 की उपलब्धता की जानकारी जुटानी है

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने दावा किया है कि चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने मून लैंडर विक्रम का पता लगा लिया है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ( ISRO ) ने ट्वीट किया, "चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर का पता लगा लिया है, लेकिन अभी तक उससे संपर्क नहीं हो सका है।

इसरो ने कहाकि लैंडर से संपर्क करने की हर संभव कोशिश की जा रही है।

महाराष्ट्र: चुनाव से पहले कांग्रेस और NCP को करारा झटका, नाइक और पाटिल करेंगे BJP जॉइन

j.png

इसरो ने हालांकि यह नहीं बताया कि चांद की सतह पर लैंडर इस समय किसी स्थिति में है।

अंतरिक्ष एजेंसी ने मून लैंडर के सात सितंबर तड़के अपने वास्तविक मार्ग से भटकने और उससे संपर्क टूटने के कारण पर अभी तक कुछ नहीं कहा।

आपको बता दें कि चंद्रयान-1 ने जहां चंद्रमा पर पानी की खोज की थी, वहीं चंद्रयान 2 को न केवल पानी की मात्रा और स्थिति का पता लगाना है, बल्कि चंद्रमा में हीलियम-3 की उपलब्धता की जानकारी जुटानी है।

जम्मू-कश्मीर: सोपोर में सुरक्षाबलों के हाथ बड़ी कामयाबी, मार गिराया लश्कर का आतंकी आसिफ

j1.png

Video viral: पहली बार सामने आया चंद्रमा का यह वीडियो, देखकर लोग भी रह गए हैरान

दरअसल, धरती पर पर हीलियम-3 बहुत कम मात्रा में उपलब्ध है। नासा के अनुसार चंद्रमा पर हीलियम-3 का प्रचुर भंडार है।

इसको लेकर वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर हम चंद्रमा से धरती पर हीलियम-3 ले आते हैं तो पूरी दुनिया में ऊर्जा की कमी पूरी हो जाएगी।

इस हीलियम-3 का इस्तेमाल धरती ऊर्जा पैदा करने में किया जा सकता है।

j5.png
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned