देश में फिर बढ़ रहा कोरोना का कहर, कहीं ये खतरे की घंटी तो नहीं

Highlights.

- इस साल एक बार फिर यह सिलसिला महाराष्ट्र से शुरू होता दिख रहा है
- महाराष्ट्र की स्थिति पिछले चार दिनों में अधिक बिगड़ती दिख रही है
- बढ़ते मामलों को देखते हुए गाइडलाइन का पालन करने को कहा गया है

 

नई दिल्ली।

पिछले साल कोरोना के मामले में तेजी मार्च महीने में आनी शुरू हुई, जिसके बाद लॉकडाउन लगाना पड़ गया था। इस साल एक बार फिर यह सिलसिला महाराष्ट्र से शुरू होता दिख रहा है। इस राज्य में बढ़ते मामलों ने लोगों में डर पैदा कर दिया है। महाराष्ट्र की स्थिति पिछले चार दिनों में अधिक बिगड़ती दिख रही है।

बीते रविवार को कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या का सात दिनों का औसत 11 हजार 430 था। गुरुवार को बढक़र यह 11 हजार 825 हो गया। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने एक बार फिर कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश दे दिए हैं।

बहरहाल, कोरोना संक्रमितों की संख्या में भले ही वृद्धि कम हुई हो, मगर इसके गिरते आंकड़ों के बीच यह बढ़ोतरी किसी खतरे की घंटी का संकेत दे रही है। भारत में गुरुवार को 13 हजार 179 मामले दर्ज हुए। यह पिछले 25 दिनों में सबसे ज्यादा है। 30 जनवरी के बाद पहली बार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 13 हजार से अधिक हुई है। वहीं, महाराष्ट्र की बात करें तो राज्य में 78 दिनों के बाद कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 5 हजार के आंकड़े पार कर रहे हैं।

विशेषज्ञ इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कहीं देश में यह कोरोना की दूसरी लहर तो नहीं है। वैसे पिछले साल भी महाराष्ट्र में कोरोना के मामले सबसे अधिक थे और ताजा बढ़ रहे मामलों में भी महाराष्ट्र नंबर एक पर बना हुआ है। क्योंकि महाराष्ट्र में गुरुवार को संक्रमित मरीजों की संख्या 5 हजार 427 थी, जो किसी अन्य राज्य की अपेक्षा सबसे अधिक थी। वहीं, बीते सात दिनों में भी महाराष्ट्र में कोरोना के मामले 47 प्रतिशत तक बढ़े हैं।

Corona virus COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned