Lockdown: गलत ट्रेन में बैठ पटना की जगह जयपुर पहुंची बहन को लेने 953 ​किमी दूर बाइक पर आया भाई

Coronavirus Emotional Story: दिलों में दहशत...सड़कों पर सन्नाटा...और घरों में दुबके लोग...। कोरोना ( Coronavirus ) का खौफ जहन में इस कदर बैठा है कि अब रिश्तेदार भी रिश्तों से मुंह मोड़ रहे है। ऐसा ही मामला राजस्थान के जयपुर से सामने आया है। जहां एक महिला अपने 4 साल के बेटे के साथ गलत ट्रेन में चढ़ने के कारण पटना की जगह जयपुर पहुंच गई। महिला जयपुर स्टेशन पर बैठ कर रोने लगी। ऐसे में फिर उसका भाई करीब 1 हजार किलोमीटर दूर से बाइक लेकर उसे लेने रवाना हुआ।

नई दिल्ली।
coronavirus Emotional Story: दिलों में दहशत...सड़कों पर सन्नाटा...और घरों में दुबके लोग...। ऐसे में अगर कोई इंसान मुसीबत में फंस जाए तो कौन मदद करें। देश में इन दिनों कुछ इसी तरह का माहौल बना हुआ है। कोरोना ( Coronavirus ) का खौफ जहन में इस कदर बैठा है कि अब रिश्तेदार भी रिश्तों से मुंह मोड़ रहे है। ऐसा ही मामला राजस्थान के जयपुर से सामने आया है। जहां एक महिला अपने 4 साल के बेटे के साथ गलत ट्रेन में चढ़ने के कारण पटना की जगह जयपुर पहुंच गई। राजस्थान में अपने जान-पहचान के रिश्तेदारों से मदद मांगी, लेकिन कोरोना के खौफ के चलते किसी ने मदद नहीं की। महिला जयपुर स्टेशन पर बैठ कर रोने लगी। ऐसे में फिर उसका भाई करीब 1 हजार किलोमीटर दूर से बाइक लेकर उसे लेने रवाना हुआ।

jaipur_01.jpg

रेलवे ( Railway ) ने दी पनाह
दरअसल, पटना निवासी अस्मिता अपनी चार साल की बेटी के साथ पीहर नागपुर गई थी। उसे रविवार को शाम को वापस आना था। उसने बागमति एक्सप्रेस में नागपुर से पटना का स्लीपर श्रेणी में टिकट बुक कराया लिया। लेकिन, नागपुर स्टेशन ( Nagpur Station ) पर उसने गलती से मैसूर-जयपुर एक्सप्रेस पकड़ ली। वह ट्रेन में सो गई। सुबह आंख खुली तो ट्रेन जयपुर स्टेशन ( Jaipur Station ) पर खड़ी थी। यहां वह स्टेशन पर उतरकर बैठ गई। इसी दौरान ड्यूटी पर तैनात आरपीएफ हैड कानिस्टेबल ममता और अशोक कुमार उसके पास आए और पूछताछ की। जब उसको पता चला कि वह गलत ट्रेन में बैठ गई थी। इस पर स्टेशन सुपरिंटेंडेंट डीएल तनेजा,आरपीएफ इंस्पेक्टर राजकुमार ने उसे पनाह दी। उसे रेस्ट रूम में ठहराकर खाना खिलाया।

jaipur_01_03.jpg

रिश्तेदारों ने बनाया बहाना
जयपुर स्टेशन पर अस्मिता ने राजस्थान में रहने वाले रिश्तेदारों को फोन पर मदद मांगी। लेकिन, कोरोना ( Coronavirus in India ) के चलते सभी ने बहाने बना लिए और घर में आने से मना कर दिया। वह स्टेशन पर बैठकर रोने लगी। इसके बाद रेलवे पुलिस अधिकारियों ने उसकी मदद की।

jaipur_02.jpg

फोन कर भाई को बुलाया
जब रिश्तेदारों ने मना कर दिया तो अस्मिता ने नागपुर में भाई रितेश को फोन कर इसकी सूचना दी। जिसके बाद रितेश नागपुर से बाइक पर जयपुर के लिए रवाना हो गया। बता दें कि जयपुर से नागपुर करीब 953 किमी दूर है

Coronavirus Outbreak coronavirus COVID-19
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned