script Coronavirus Third Wave: तीसरी लहर की आहट के बीच 13 राज्यों ने खोल दिए स्कूल, बढ़ सकता है बच्चों में संक्रमण का खतरा | Coronavirus Third Wave 13 states reopens School risk of infection in children may increase | Patrika News

Coronavirus Third Wave: तीसरी लहर की आहट के बीच 13 राज्यों ने खोल दिए स्कूल, बढ़ सकता है बच्चों में संक्रमण का खतरा

locationनई दिल्लीPublished: Aug 03, 2021 11:56:43 am

Coronavirus Third Wave के मुहाने पर खड़ा देश, 13 राज्यों ने खोले स्कूल, बच्चों में संक्रमण के मामलों ने बढ़ाई चिंता

27.jpg
नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस की तीसरी लहर ( Coronavirus Third Wave ) को लेकर खतरा लगातार बढ़ रहा है। कुछ अध्ययनों में तो दावा किया जा चुका है कि देश में तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है। लेकिन तीसरी लहर की आहट के बीच देश के 13 राज्यों ने स्कूलों को दोबारा शुरू कर दिया है। ऐसे में बच्चों पर कोरोना संक्रमण का खतरा मंडराने लगा है।
दरअसल लगातार ये कहा जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों को ज्यादा प्रभावित कर सकती है। ऐसे में कहीं राज्यों का स्कूलों को दोबारा खोलने का फैसला कहीं बड़ी मुश्किल ना खड़ी कर दे।
यह भी पढ़ेंः Coronavirus third wave : अगले सप्ताह से शुरू हो सकती है तीसरी लहर! एक्सपर्ट्स ने दी चेतावनी

26.jpgविशेषज्ञों की मानें तो अगस्त के दूसरे हफ्ते में कोरोना की तीसरी लहर का असर देखने को मिलेगा। जबकि डेढ़ महीने बाद यानी अक्टूबर में ये अपने पीक पर पहुंच जाएगी।

लेकिन इन सबके बीच सबसे ज्यादा डराने वाली बात जो है वो ये कि इस बढ़ते संकट से ठीक पहले देश के 10 राज्यों ने स्कूलों को दोबारा खोल दिया हैं। वहीं तीन राज्यों ने सोमवार से ऑफलाइन कक्षाएं शुरू की हैं।
महाराष्ट्रः 613 बच्चे संक्रमित
महाराष्ट्र में दोबारा स्कूल खुलने के बाद से 613 बच्चे संक्रमित मिल चुके हैं। दूसरी लहर के बाद महाराष्ट्र ने सबसे पहले 15 जुलाई से उन इलाकों में आठवीं से 12वीं क्लास तक के स्कूल खोले थे, जहां संक्रमण के नए मामले नहीं आ रहे थे। बावजूद सोलापुर में अब तक 613 बच्चे संक्रमित पाए जा चुके हैं। लेकिन अब तक स्कूल बंद करने की सूचना नहीं है।
हरियाणा : 6 पॉजटिव केस
हरियाणा में हालात गंभीर संकेत दे रहे हैं। फतेहाबाद के दो सरकारी स्कूलों के छह बच्चों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इन बच्चों को अलग रखा गया है। राज्य में 16 जुलाई से नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं और 23 जुलाई से छठी से आठवीं तक की क्लास खोल दी गई हैं।
इन राज्यों में भी शुरू हुए स्कूल
मध्य प्रदेश : 12वीं कक्षा के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं। हालांकि, निजी स्कूल 5 अगस्त तक ऑनलाइन कक्षाएं ही चलाएंगे।

छत्तीसगढ़ : 2 अगस्त सोमवार से दसवीं और 12वीं के लिए कक्षाएं शुरू कर दी गई हैं।
राजस्थान : यहां भी सोमवार यानी 2 अगस्त से स्कूल, कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों को खोला गया है।
बिहार : 12 जुलाई से यहां कक्षा 11वीं और 12वीं की कक्षाओं से लेकर कॉलेज और यूनिवर्सिटी भी खोल दी गई है।
गुजरात : यहां 50 फीसदी क्षमता के साथ नौवीं से 12वीं की क्लास 25 जुलाई से चल रही हैं। वहीं कॉलेजों को 15 जुलाई को ही खोल दिया गया था।
ओडिशा : 10वीं और 12वीं के लिए 25 जुलाई से कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्र के स्कूल खोले गए।
पंजाब : कक्षा 10, 11 और 12 के लिए 25 जुलाई से स्कूल खुले। प्री प्राइमरी से नौवीं तक के लिए सोमवार से स्कूल शुरू हुए।
इन तीन राज्यों में स्कूल खोलने की तैयारी
गोवा : सीएम प्रमोद सावंत ने कहा है कि 10वीं और 12वीं कक्षाओं के लिए 15 अगस्त से कक्षाएं शुरू हो सकती हैं।
आंध्र प्रदेश : प्रदेश में 16 अगस्त से यहां 50 फीसदी कैपेसिटी के साथ प्राथमिक से लेकर 12वीं तक की क्लास शुरू करने की तैयारी।
जम्मू-कश्मीर : यहां भी अगस्त के दूसरे सप्ताह में स्कूलों को खोला जा सकता है।
यहां पर टल रहा फैसला
दिल्लीः मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अब तक दिल्ली में स्कूल खोले जाने को लेकर अंतिम फैसला नहीं लिया है। हालातों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लेने की बात कही थी।
पुद्दुचेरीः यहां 16 जुलाई से कक्षा नौवीं से 12वीं के लिए स्कूल खोले जाने थे, लेकिन 16 बच्चों के संक्रमित हो जाने के बाद सरकार ने फैसला टाल दिया।
यह भी पढ़ेंः देश में कोरोना वायरस की तीसरी लहर को लेकर आईआईटी प्रोफेसर ने किया बड़ा दावा

ये कहता है ICMR
देश में स्कूल खोले जाने को लेकर आईसीएमार की मानें तो पहले प्राथमिक कक्षाओं को शुरू किया जाना चाहिए। दरअसल देश के चौथे सीरो सर्वे से पता चला है कि बड़ी तादाद में बच्चों के अंदर एंटीबॉडीज पैदा हो गई हैं।
इसके आधार पर 20 जुलाई को ICMR के महानिदेशक प्रो. बलराम भार्गव ने स्कूल खोलने के राज्यों के फैसलों का समर्थन किया।
हालांकि उन्होंने कहा कि, बड़ी कक्षाओं की जगह प्राथमिक कक्षाओं के लिए स्कूल खोलना बेहतर होगा, क्योंकि वयस्कों के मुकाबले बच्चों का शरीर संक्रमण से ज्यादा अच्छी तरह लड़ सकता है।
लेकिन इसके उलट ज्यादातर राज्यों में बड़ी कक्षाओं को ही खोला गया है।

ट्रेंडिंग वीडियो