ट्रेजडी किंग Dilip Kumar को नहीं बताई जाती परेशान करने वाली बातें, जानें क्यों?

  • सायरा बानो का कहना है कि हम परेशान करने वाली बातों को उनसे दूर रखते हैं।
  • हमें इस बात का भय होता है कि ऐसी खबरें सुनकर उनकी तबीयत और ज्यादा खराब हो सकती है।
  • अमिताभ बच्चन का COVID-19 से संक्रमित होने की जानकारी भी उन्हें नहीं दी गई। जबकि दिलीप साहब बिग बी को बहुत चाहते हैं।

नई दिल्ली। हाल ही में बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार ( Dilip Kumar ) ने अपने दोनों भाइयों को खो दिया है। उनके दोनों भाई अब इस दुनिया में नहीं रहे। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद दोनों की मृत्यु हो चुकी है। लेकिन इतनी बड़ी घटना की ट्रेजडी किंग यानि दिलीप साहब को जानकारी तक नहीं है।

इस बारे में उनकी पत्नी सायरा बानो ने टीओआई को एक साक्षात्कार में बताया कि दिलीप कुमार के भाई 90 वर्षीय एहसान खान और 88 वर्षीय असलम खान कोरोना वायरस पॉजिटिव थे। कोरोना इलाज के लिए मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लीलावती अस्पताल में उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई।

19 साल पहले 9/11 आतंकी हमले से दहल गया था अमरीका, जानें इससे जुड़ी बातें

सायरा बानो ने बताया कि इसकी जानकारी दिलीप साहब को नहीं दी गई है। दिलीप कुमार को यह नहीं बताया गया है कि असलम भाई और एहसान भाई अब इस दुनिया में नहीं हैं। हम हर तरह की परेशान करने वाली खबरें उनसे दूर रखते हैं। हमें इस बात का भय होता है कि ऐसी खबरें सुनकर उनकी तबीयत खराब हो सकती है।

इतना ही नहीं सायरा ने यह भी बताया कि जब अमिताभ बच्चन COVID-19 से संक्रमित हुए और नानावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था तब भी हमने उन्हें इस बात की जानकारी नहीं दी। जबकि वह अमिताभ बच्चन जी को बहुत पसंद करते हैं।

बता दें कि दिलीप कुमार भारतीय हिंदी सिनेमा के प्रसिद्ध और बेहतरीन अभिनेता हैं। त्रासदपूर्ण भूमिकाओं को लेकर लोकप्रिय होने पर उन्हें 'ट्रेजडी किंग' भी कहा गया। उन्हें भारतीय फिल्मों में यादगार अभिनय करने के लिए फिल्मों का सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिल चुका है। पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज से से भी सम्मानित किया जा चुका है।

Dassault Rafale वायुसेना में शामिल, राजनाथ सिंह ने दुश्मन देश को दिया सख्त संदेश

जानें दिलीप कुमार से जुड़ी अहम बातें :

1. 11 दिसम्बर, 1922 को पाकिस्तान के पेशावर शहर में दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद युसूफ़ ख़ान का जन्म हुआ था। उनके पिता लाला ग़ुलाम सरवर फल बेचकर परिवार का ख़र्च चलाते थे।

2. उनके जीवन में एक दौर ऐसा भी आया जब पिता के व्यापार में घाटा होने के कारण वह पुणे की एक कैंटीन में काम करने लगे थे। यहीं देविका रानी की पहली नजर उन पर पड़ी और उन्होंने दिलीप कुमार को अभिनेता बना दिया। देविका रानी ने ही उनका नाम युसूफ खान की जगह दिलीप कुमार रखा।

3. दिलीप कुमार 25 साल की उम्र में बॉलीवुड के नंबर वन अभिनेता के रूप में स्थापित हो गए थे। अभिनेत्री सायरा बानो से उनकी शादी 1966 में हुई। विवाह के समय दिलीप कुमार 44 वर्ष और सायरा बानो की 22 वर्ष की थीं।

4. उन्होंने बॉलीवुड में करिअर की शुरुआत फिल्म ज्वार भाटा से की जो 1944 में रिलीज हुई थी। उनकी ये फिल्म सफल नहीं रही। दिलीप की पहली हिट फिल्म जुगनू थी।

5. फिल्म अंदाज में दिलीप कुमार ने पहली बार राजकपूर के साथ काम किया जो हिट साबित हुई। इके बाद दीदार, देवदास, जैसी फिल्मों में गंभीर भूमिकाओं के लिए मशहूर होने के कारण उन्हें ट्रेजडी किंग कहा जाने लगा। मुगले -ए-आजम में उन्होंने मुगले राजकुमार जहांगीर की भूमिका निभाई। फिल्म राम और श्याम में दिलीप कुमार द्वारा निभाया गया दोहरी भूमिका आज भी लोगों को गुदगुदाता है।

6. दिलीप कुमार ने रमेश सिप्पी की फिल्म शक्ति में अमिताभ बच्चन के साथ काम किया था। इस फिल्म के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी मिला।

Dilip Kumar Dilip Kumar latest news
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned