Earthquake: दिन में दूसरी बार कांपी धरती, जम्मू-कश्मीर के बाद अब अंडमान में भूकंप के झटके

  • Earthquake: अंडमान निकोबार में महसूस किए गए भूकंप के झटके
  • पोर्टब्लेयर के दक्षिण पश्चिम में आए भूकंप की 3.6 मापी गई तीव्रता
  • सुबह जम्मू-कश्मीर में भी कांपी थी धरती

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच देश की धरती लगातार भूकंप ( Earthquake ) के झटकों से कांप रही है। एक दिन में देश के दो अलग-अलग इलाकों में भूकंप से धरती थर्राई है। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में शनिवार दोपहर को भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.6 रही।

सेंटर ने बताया कि इसका केंद्र पोर्ट ब्लेयर के दक्षिण-पूर्व में 143 किमी पर था। बताया गया है कि भूकंप के झटके दोपहर को 12 बजकर 30 मिनट पर महसूस किए गए। अभी तक किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की खबर नहीं मिली है।

भूकंप से कांपी घाटी

शनिवार 7 नवंबर को ही जम्मू-कश्मीर के पहलगाम में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.1 मापी गई है। पहलगाम में सुबह 4 बजकर 29 मिनट पर तेज भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

नवंबर का महीना शुरू होते ही घाटी के तापमान में लगातार गिरावट महूसस की जा रही है, इस बीच सुबह-सुबह आए भूंकप के झटकों ने लोगों की नींद उड़ा दी। हालांकि किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

आपको बता दें कि एक दिन पहले ही हिमाचल प्रदेश में भूकंप के झटके महसूस किए थे। चंबा में आए भूकंप के झटके की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर मापी गई 2.9 मापी गई थी। आपको बता दें कि अकेले हिमाचल प्रदेश में ही पिछले 6 महीने में कई बार भूकंप के जटके महसूस किए जा चुके हैं। सबसे ज्यादा भूकंप के झटकों से चंबा की धरती कांपी है।

इससे पहले 24 अक्टूबर को भी हिमाचल प्रदेश में भूकंप आया था ।

वहीं इससे पहले अंडमान निकोबार में 19 अक्टूबर को भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इस दौरान भूंकप की तीव्रता 5.1 मापी गई थी। इसी दिन लद्दाख में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned