अचानक नहीं हुई थी मुठभेड़, खुफिया सूचना के आधार पर शुरू हुआ था ऑपरेशन

Highlights.

- भारत ने सख्त रवैया अपनाते हुए पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी को तलब कर फटकार लगाई

- नगरोटा में एक बड़े आतंकी हमले की साजिश को सुरक्षा बलों ने गुरुवार को नाकाम कर दिया था

- पाक आतंकियों को पनाह देने की नीति से बाज आए और आतंकी संगठनों के ठिकानों को नष्ट करे

नई दिल्ली.

जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश पर भारत ने सख्त रवैया अपनाते हुए पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी को तलब कर फटकार लगाई। नगरोटा में एक बड़े आतंकी हमले की साजिश को सुरक्षा बलों ने गुरुवार को नाकाम कर दिया था। शुरुआती रिपोर्ट में सभी आतंकी पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े पाए गए।

भारत ने साफ कर दिया है कि पाक की जमीन से उसके खिलाफ आतंकी साजिशों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यदि ऐसी कोशिश आगे होती है तो जवाबी कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है।

भारत ने दोहराई पुरानी मांग

विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी को बुलाकर हमले की कोशिश का कड़ा विरोध किया। भारत ने मांग की है कि पाक आतंकियों को पनाह देने की नीति से बाज आए और आतंकी संगठनों के ठिकानों को नष्ट करे। भारत ने पुरानी मांग दोहराते हुए कहा कि पाक अपनी धरती को भारत के खिलाफ किसी तरह के आतंकवाद फैलाने के लिए इस्तेमाल नहीं होने देने के अपने वादे और अंतरराष्ट्रीय समझौतों का पालन करे।

जीपीएस डिवाइस से खुला राज!

आतंकियों के साथ मुठभेड़ इत्तेफाक से नहीं हुई थी। यह खुफिया सूचना आधारित ऑपरेशन था। इस घटना से संबंधित जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) डिवाइस के शुरुआती आंकड़ों से और चारों आतंकियों के पास मिले मोबाइल फोन से पता चलता है कि वे जैश-ए-मोह मद के ऑपरेशनल कमांडर मुफ्ती रऊफ असगर और कारी जरार के संपर्क में थे। इनका मकसद कश्मीर घाटी में बड़ा हमला करना था। असगर जैश प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित वैश्विक आतंकी मसूद अजहर का छोटा भाई है।

तोड़ा सीजफायर, एक जवान शहीद

पाकिस्तान से घुसपैठ कर ट्रक में छिपकर घाटी जा रहे चार आतंकियों के बन टोल प्लाजा पर मारे जाने के बाद पाकिस्तान बौखला गया है। पाकिस्तानी सेना ने फिर आतंकियों की भारतीय सीमा में घुसपैठ कराने के लिए सीमा पर गोलाबारी का सहारा लिया। हालांकि, सीमा पर तैनात भारतीय जवानों ने पाकिस्तान के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। राजौरी के नौशहरा से टर में पाकिस्तान द्वारा किए गए सीजफायर उल्लंघन में एक भारतीय जवान शहीद हो गया है, जबकि एक अन्य घायल हो गया है। शहीद की पहचान कोल्हापुर महाराष्ट्र निवासी हवलदार पाटिल संग्राम शेखर के तौर पर हुई है। वहीं घायल जवान नायक रैंक का है।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned