हमारे सोशल मीडिया पर गूगल—फेसबुक का 'एकाधिकार'

Highlights.

- भविष्य के लिए नुकसानदेह है किसी भी कंपनी का वर्चस्ववादी व्यवहार

- दोनों कंपनियों पर देश के भीतर भी एकाधिकार का दुरुपयोग करने के आरोप लगते रहे हैं

- फेसबुक हेट स्पीच मामले में देश के भीतर कठघरे में है और संसदीय समिति के सामने उसकी पेशी भी हो रही है

नई दिल्ली.

अमरीका में बाजार में एकाधिकार का आरोप झेल रहे गूगल और फेसबुक का भारतीय बाजार पर भी एकाधिकार है। दोनों कंपनियों पर देश के भीतर भी एकाधिकार का दुरुपयोग करने के आरोप लगते रहे हैं। प्रतिस्पर्धी आयोग गूगल पर एंड्राइड के एकाधिकार का गलत उपयोग करने के लिए 135.86 करोड़ का जुर्माना लगा चुका है। फेसबुक हेट स्पीच मामले में देश के भीतर कठघरे में है और संसदीय समिति के सामने उसकी पेशी भी हो रही है। बावजूद इनके एकाधिकार को रोकने के लिए देश के नियमों में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

अमरीका में मुश्किल में गूगल—फेसबुक
अमरीका में उपभोक्ता सुरक्षा नियामक (एफटीसी) ने भी फेसबुक और गूगल पर पिछले दिनों लैंडमार्क एंटीट्रस्ट कानून के तहत केस दर्ज किया है। फेसबुक और गूगल पर बाजार की प्रतिस्पर्धा को खत्म करने के लिए अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करने का आरोप है।

फेसबुक पर आरोप
यह प्रतिस्पर्धियों को खरीदकर सोशल मीडिया की दुनिया में अपना एकाधिकार जमाना चाहता है। साल 2012 में फोटो शेयरिंग ऐप इंस्टाग्राम की 5,362 करोड़ रुपए में खरीद और 2014 में 1.65 लाख करोड़ रुपए में वॉट्सऐप को खरीदना बताता है कि कंपनी वर्चस्व स्थापित करना चाहती है। ये सौदे बाजार की स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए खतरा हैं। फेसबुक की मार्केट वैल्यू लगभग 800 बिलियन डॉलर की है।

गूगल पर आरोप
गूगल इंटरनेट का प्रवेश द्वार है और खोज-विज्ञापन के बाजार में यह विशालकाय है। गूगल ने विशेष व्यवहार के जरिए अपनी एकाधिकारवादी शक्तियों को बनाए रखा है, जो प्रतिस्पर्धा के लिए हानिकारक है। कंपनी मुनाफा बढ़ाने के लिए ऑनलाइन सर्च कारोबार में अपने प्रभुत्व दुरुपयोग कर रही है। गूगल की मूल कंपनी एल्फाबेट इंक है और इसका बाजार मूल्य 1,000 अरब डॉलर से अधिक है।

फ्रांस में गूगल पर 890 करोड़ रुपए जुर्माना
पिछले दिनों फ्रांस ने गूगल पर 890 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। गूगल पर यह अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना है। जुर्माना फ्रांस के ऑनलाइन एडवरटाइजिंग ट्रैकर्स (कुकीज) के नियमों के उल्लंघन के मामले में लगाया गया है। ई-कॉमर्स दिग्गज अमेजन पर भी 311 करोड़ रुपए का जुर्माना लगा है।

दो हिस्सों में बंटे फेसबुक का कारोबार
एफटीसी चाहता है कि फेसबुक कारोबार को दो हिस्सों में बांट दे। यदि ऐसा हुआ तो फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग द्वारा खड़े किए गए सोशल मीडिया के साम्राज्य के अस्तित्व के लिए खतरा उत्पन्न हो जाएगा। इसकी वजह यह है कि कंपनी की आमदनी इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप से बढ़ रही है। इनके दम पर फेसबुक डिजिटल कॉमर्स में उतर रही है। यदि ये दो मुनाफे वाले सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हाथ से निकलते हैं तो फेसबुक की लॉन्गटर्म वैल्यू खत्म हो जाएगी।

एकाधिकार का नुकसान
— देश में फेसबुक पर हेट स्पीच को समर्थन करने का आरोप लगा है।
— एकाधिकार के चलते सोशल मीडिया पर कंटेंट को दिखाने और रोकने का आरोप
— फेसबुक ई—कॉमर्स में आएगी तो नुकसान छोटे कारोबारियों को होगा।
— एप्पल, अमेजॉन, फेसबुक और गूगल जैसी अमरीकी कंपनियां आज विश्व के कई देशों की इकोनॉमी से बड़ी हो गई हैं।
— कंपनियों के बिजनेस मॉडल में वर्चस्ववादी व्यवहार का खुलासा
— अमरीकी जांच में आरोप, अपना कारोबार बढ़ाने के लिए छोटे कारोबार और कारोबारियों को नुकसान पहुंचाया।
— निजी डेटा का अनैतिक उपयोग कर प्रतिस्पर्धा को ही खत्म कर दिया।

एकाधिकार कैसे नुकसानदेह
डिस्काउंट और बहुत कुछ फ्री मिल रहा है तो फिर आम नागरिकों को चिंता क्यों करनी चाहिए? इसको समझने के लिए जरूरी है कि 2016 में भारत में रिलायंस जियो ने 4जी सेवा शुरू की जिसमें उपभोक्ताओं को करीब 1 वर्ष तक इंटरनेट और कॉलिंग की मुफ्त सेवाएं दी गई। परिणाम यह हुआ कि एक समय 15 से ज्यादा टेलीकॉम कंपनियां भारत में सेवाएं दे रही थी, अब महज 3 बची हैं। अब तीनों कंपनियां अपनी दरें बढ़ा रही हैं। बाजार से प्रतिस्पर्धा काफी हद तक खत्म हो गई है।

फैक्ट फाइल: भारत में ऑपरेटिंग सिस्टम का मार्केट नवम्बर—2020
ओएस हिस्सा (प्रतिशत में)
एन्ड्रॉयड 63.43
विंडोज 20.51
आइओएस 2.38
मैक ओएस एक्स 1.13
लीनिक्स 0.82
अन्य 11.1

भारत में सोशल मीडिया का मार्केट नवम्बर—2020

साइट हिस्सा (प्रतिशत में)
फेसबुक 74.18
यूट्यब 10.41
पिंटरेस्ट 6.18
इंस्टाग्राम 4.3
ट्विटर 3.45
लिंक्डइन 0.33
अन्य 0.35

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned