महाराष्ट्र: गृहमंत्री अनिल देशमुख से मुखपत्र 'सामना' ने भी दूरी बनाई, याचिका पर कल होगी सुनवाई

जनहित याचिका में मांग की गई है कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर जो भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं, उसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।

मुंबई। महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी सरकार मुश्किलों में घिरती आ रही है। पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Param Bir Singh) के आरोपों के बाद महाराष्ट्र में सियासी संकट जारी है। शिवसेना (Shiv Sena) ने मुखपत्र सामना के जरिए गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) से इस मामले में दूरी बनाने का संदेश दिया है। देशमुख के खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई है।

स्वतंत्र जांच कराने की मांग

अनिल देश मुख के खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट में दायर याचिका लिस्ट हो गई है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ मुंबई के वकील डॉ जयश्री लक्ष्मणराव पाटिल द्वारा दायर याचिका पर जल्द सुनवाई होगी। याचिका में पाटिल ने अनिल देशमुख पर पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह की ओर से लगाए गए आरोपों की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की गई है।

पाटिल का कहना है कि गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए, नहीं तो वे सबूत मिटा सकते हैं। पाटिल ने सवाल किया कि एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) देशमुख का बचाव किस लिए कर रहे हैं?

सीबीआई जांच की मांग

वहीं हाईकोर्ट में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने एक जनहित याचिका दायर करते हुए अदालत से मांग की है कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर जो भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं, उसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए। परमबीर सिंह की जनहित याचिका पर मुंबई हाईकोर्ट बुधवार को सुनवाई करेगा।

याचिका दायर करने वाले वकील जयश्री पाटिल का कहना है कि गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए, नहीं तो वे सबूत मिटा सकते हैं। पाटिल ने सवाल किया कि एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) देशमुख का बचाव किस लिए कर रहे हैं?

'परमबीर के आदेश पर बहाल हुआ वाजे'

वहीं एनसीपी नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने एक बार फिर गृहमंत्री अनिल देशमुख का बचाव करा है। उन्होंने कहा, सचिन वाजे (Sachin Vaze) की बहाली मुंबई पुलिस कमिश्नर रहते हुए खुद परमबीर सिंह (Param Bir Singh) ने ही की थी। किसी मंत्री या मुख्यमंत्री के आदेश से वाजे को बहाल नहीं करा गया।

भाजपा भ्रम फैला रही

गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और शरद पवार की बैठक को लेकर लग रही अटकलों पर एनसीपी नेता ने कहा, भाजपा (BJP) पहले कहती थी कि एक माह में महाराष्ट्र सरकार गिर जाएगी। फिर अफवाह फैलाई गई कि विधायक टूट जाएंगे, फिर कहने लगे कि राष्ट्रपति शासन लगेगा। अब ये भ्रम फैला रही है कि BJP के साथ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) जाएगी। भाजपा यहां पर भ्रम फैलाने का काम कर रही है।

महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी सरकार का हिस्सा कांग्रेस, सचिन वाजे (Sachin Vaze) मामले पर सीधा बचाव करने से लगातार बच रही है। कांग्रेस (Congress) ने इस मामले पर पार्टी नेताओं की अलग बैठक भी की है। कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित के अनुसार जांच रिपोर्ट आएगी तो पता चलेगा कि कौन सही है, कौन गलत।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned