हिंदू राव अस्‍पताल के डॉक्‍टरों ने खोला मोर्चा, मारपीट के खिलाफ हड़ताल, एम्‍स का मिला समर्थन

  • Hindu Rao hospital strike से मरीज परेशान
  • मारपीट करने वाले परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज
  • AIIMS सहित कई संगठनों के चिकित्‍सक नहीं मनाएंगे Doctor's Day

नई दिल्ली। दिल्ली नगर निगम के बड़े अस्पताल हिंदूराव के डॉक्‍टर मारपीट की घटना के बाद सोमवार को सामूहिक हड़ताल ( Hindu Rao Hospital strike ) पर चले गए हैं। केवल आपातकालीन सेवाओं को हड़ताल से बाहर रखा गया है। डॉक्‍टरों की हड़ताल को एम्‍स दिल्‍ली और अन्‍य अस्‍पतालों के डॉक्‍टरों ने भी जायज ठहराया है।

बताया जा रहा है कि अगर डॉक्‍टर के साथ मारपीट में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो कोलकाता की तरह हिंदूराव के डॉक्‍टरों की हड़ताल व्‍यापक रूप धारण कर सकती है।

नाराज परिजनों ने की डॉक्‍टर की पिटाई

दरअसल, हिंदूराव अस्‍पताल में मारपीट की घटना शनिवार देर रात की है। शनिवार देर रात एक महिला मरीज को आपाताकालीन स्थिति में अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था।

कुछ देर बाद इलाज के दौरान महिला मरीज की मौत पर उनके परिजन नाराज हो गए और ड्यूटी पर तैनात दो डॉक्टरों की जमकर पिटाई कर दी। जबकि अन्य डॉक्टरों के साथ हाथापाई की।

AIIMS

एम्स का समर्थन

AIIMS ने भी हिंदूराव अस्पताल की रेजिडेंट डॉक्‍टर्स एसोसिएशन का समर्थन करने की बात की है। एम्स की रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह मल्ही ने बताया कि डॉक्टर्स से मारपीट करने की घटना का विरोध ( Hindu Rao hospital strike ) करते हैं। हम अस्पताल की रेजिडेंट डॉक्‍टर्स एसोसिएशन के साथ हैं।

विरोध में नहीं मनाएंगे डॉक्‍टर्स डे

हिंदूराव अस्पताल में डॉक्टर्स से पिटाई की घटना के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन की संस्था फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (फोर्डा) और यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एसोसिएशन ने डॉक्टर्स डे ( Doctor's Day ) नहीं मनाने का फैसला किया है।

इस घटना के बाद से हिंदूराव अस्‍पताल के डॉक्टर खासे नाराज हैं। घटना के विरोध में अस्‍पताल के डॉक्‍टर आज हड़ताल पर हैं। घटना के विरोध में डॉक्टरों की संस्थाओं ने सोमवार को डॉक्टर्स डे नहीं मनाने का निर्णय किया है।

Jammu-Kashmir: आज राज्‍यसभा में Amit Shah पेश करेंगे राष्ट्रपति शासन बढ़ाने का प्रस्ताव

 

strike

किडनी की बीमारी से पीड़ित थी महिला

बता दें कि शनिवार देर रात 45 वर्षीय राजबाला को अस्पताल की इमरजेंसी में लाया गया था। देर रात करीब एक बजे उसकी मौत हो गई।

इससे नाराज परिजनों ने डॉक्टरों की जमकर पिटाई की। एक डॉक्टर के सिर में काफी चोट आई।

घटना के वक्त मौजूद एक डॉक्टर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि महिला गंभीर किडनी की बीमारी से जूझ रही थी। मरीज की स्थिति काफी गंभीर थी और उनकी मौत हो गई।

इसके बाद महिला के परिजनों ने फोन कर करीब 30-40 लोगों को बुला लिया। मृतक महिला के परिजनों ने डॉक्‍टरों के साथ हाथापाई शुरू कर दी। परिजनों की पिटाई में दो डॉक्टर गंभीर रूप से घायल हो गए।

असम NRC डेडलाइनः एक महीने में 1 लाख लोगों को साबित करनी होगी नागरिकता

परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज

इस घटना के बाद अस्पताल की शिकायत पर मंडी थाना पुलिस ने सरकारी काम में अवरोध उत्‍पन्‍न करने और मारपीट का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned