1975 ए लव स्टोरी: कॉलेज की मोहब्बत परवान चढ़ी और शादी के बंधन में बंधे सुषमा-स्वराज

1975 ए लव स्टोरी: कॉलेज की मोहब्बत परवान चढ़ी और शादी के बंधन में बंधे सुषमा-स्वराज

  • Sushma Swaraj ने सुप्रीम कोर्ट के वकील स्वराज कौशल से 13 जुलाई 1975 को शादी की थी
  • सुषमा स्वराज की लव मैरिज, दिन के अनुसार कपड़े पहनने जैसी उनके जीवन से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें

नई दिल्ली। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात निधन हो गया। 67 साल की सुषमा स्वराज ने दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली। उनके निधन से देश और पार्टी में शोक की लहर है। देश के तमाम नेता ने स्वारज के निधन पर शोक प्रकट किया है। इस मौके पर हम आपको सुषमा स्वराज की जिंदगी से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताने जा रहा है, जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे।

पढ़ें- स्मृति शेष : 'मैं इसी तरह जीना पसंद करती हूं, देखना एक दिन चुपचाप चली जाऊंगी'

1. सुषमा स्वराज का राजनीतिक सफर जितना दिलचस्प रहा। उतनी ही रोचक उनकी निजी जिंदगी भी रही है। 14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अंबाला कैंट में जन्मीं सुषमा स्वराज ने लव मैरिज की थी। स्वराज ने सुप्रीम कोर्ट के वकील स्वराज कौशल से लव मैरिज की थी। सुषमा स्वराज के माता-पिता ने इस शादी का जमकर विरोध किया था। इसके बावजूद उन्होंने शादी की थी।

- सुषमा स्वराज की लव स्टोरी कॉलेज के दिनों में शुरू हुई थी। पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के लॉ डिपार्टमेंट में दोनों का प्यार परवान चढ़ा और 13 जुलाई 1975 को इनकी शादी हो गई।

2. बहुत कम ही लोग इस बात को जानते होंगे कि सुषमा स्वराज ज्योतिष शास्त्र और रत्न शास्त्र में काफी विश्वास रखती थीं। स्वराज हर दिन ग्रह-नक्षत्र के अनुसार कपड़े पहनती थीं और उन्हीं के अनुसार खाना भी खाती थीं।

3. सुषमा स्वराज ने अपनी जिंदगी में कई मुकाम हासिल किए थे। इसमें 25 साल की उम्र में कैबिनेट मंत्री बनने वाली वह पहली लीडर रही थींं। उन्होंने सन् 1977 में जनता पार्टी सरकार के दौर में मंत्री पद की शपथ ली थी।

4. सुषमा स्वराज की जितनी रुचि लेखनी में थी, उतनी ही दिलचस्पी म्यूजिक में भी था। उन्हें पुराने गाने सुनना बहुत पसंद था। साथ ही शास्त्रीय संगीत में भी काफी रुचि था।

5. सुषमा को कला जगत से भी खासा लगाव था। उन्हें फाइन आर्ट्स में विशेष रुचि थी। फुर्सत के समय में वो पेंटिंग्स बनाती थीं।

6. सुषमा स्वराज भारतीय संसद की प्रथम और एकमात्र ऐसी महिला सदस्या थीं, जिन्हें आउटस्टैंडिंग पार्लिमैण्टेरियन सम्मान मिला।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned