टिड्डी दल कर सकता है दोबारा हमला, बढ़ती प्रजनन संख्या से गहराई चिंता

Second Wave Alert Of Locust Attack : अंतरराष्ट्रीय संस्था फूड ऐंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन ने टिड्डी दल के दूसरे बड़े हमले की चेतावनी दी है

  • राजस्थान और गुजरात समेत कई अन्य प्रदेशों में इससे हो सकता है नुकसान

By: Soma Roy

Published: 24 Jul 2020, 09:11 AM IST

नई दिल्ली। उत्तर और पश्चिमी भारत (Northern and Eastern India) के कई राज्यों में आतंक मचाने वाले टिड्डी दल (Locust Attack) अभी शांत नहीं हुए हैं। वे दोबारा बड़े पैमाने पर हमला कर सकते हैं। उनकी लगातार बढ़ती प्रजनन संख्या ने अटैक की सेकेंड वेव (Second Wave) का खतरा बढ़ा दिया है। इस सिलसिले में अंतरराष्ट्रीय संस्था फूड ऐंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन (Food and Agriculture Organization) ने चेतावनी भी जारी की है।

संस्था ने एडवाइजरी जारी करते हुए कहा कि राजस्थान के रेगिस्तानी इलाकों में टिड्डी दल बड़ी संख्या में मौजूद हैं। वे तेजी से प्रजनन कर रहे हैं। ऐसी में आने वाले कुछ महीने में एक बार फिर टिड्डी दल का बड़ा हमला हो सकता है। इसलिए हमें तैयार रहना चाहिए। हमले का पहला प्रभाव राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात और उत्तर प्रदेश में पड़ सकता है। संस्था ने इस बारे में सरकार को आगाह करते हुए कहा कि पर्यावरण संकट की वजह से ऐसे मामले बढ़ सकते हैं। इसका मतलब यह है कि राज्य सरकारों को टिड्डी चेतावनी संस्थानों को सक्रिय करने की जरूरत है। जिससे भविष्य में होने वाले बड़े नुकसान से बचा जा सके।

वहीं टिड्डी दल के पहले हमले से हुए नुकसान के बारे में जानकारी देते हुए सरकार ने अपना बचाव किया। द्रीय कृषि मंत्रालय ने हाल ही में एक ट्वीट के जरिए बताया कि टिड्डी दल के हमले की वजह से गुजरात, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, बिहार और हरियाणा में कोई खास नुकसान नहीं हुआ। राजस्थान में सिर्फ इसका असर दिखाई दिया है। इसके बावजूद सरकार की ओर से 79 नियंत्रण टीम इन प्रदेशों में काम कर रही है। टिड्डियों को भगाने के लिए स्प्रे का छिड़काव बड़े पैमाने पर किया जा रहा है।

Show More
Soma Roy
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned