Delhi Blast: पुलिस 45000 मोबाइल डेटा खंगालने की कोशिश में लगी, धमाके के वक्त का मिला डेटा

Highlights

  • धमाके के समय इस इलाके में 45 हजार मोबाइल फोन काम कर रहे थे।
  • एजेंसियों और पुलिस के हाथ कोई भी बड़ी सफलता हाथ नहीं लगी है।

नई दिल्ली। इजरायल दूतावास के पास शुक्रवार को हुए धमाके के बाद नई-नई थ्योरी सामने आ रही है। फिलहाल मामले की जांच जारी है। इस बीच जांचकर्ताओं को धमाके के समय घटनास्थल के आसपास के मोबाइल टॉवर का डंप डेटा मिला है। धमाके के समय इस इलाके में 45 हजार मोबाइल फोन काम कर रहे थे। हालांकि इतने लंबे डेटा में से संदिग्धों की जानकारी को निकालना कठिन हो गया है।

पीएम मोदी प्रस्ताव पर चर्चा को तैयार, कृषि मंत्री ने कहा- वे किसानों से एक फोन दूर हैं

शनिवार को मिले डेटा के अनुसार धमाका वाले समय पर 45 हजार मोबाइल फोन काम कर रहे थे। यह एक बड़ी चुनौती है। 45 हजार फोन कॉल्स में से संदिग्ध नंबरों को छाटना काफी होगा। ये धमाका के पहले और धमाके के वक्त सक्रिय थे। एक सवाल यह भी है कि क्या जरूरी है कि धमाके को अंजाम देने वाले संदिग्ध अपने साथ मोबाइल फोन लिए होंं।

राजधानी दिल्ली में धमाके को 12 घंटों से अधिक का समय हो गया है। हालांकि अब तक जांच एजेंसियों और पुलिस के हाथ कोई भी बड़ी सफलता हाथ नहीं लगी है। इस दौरान जैश उल हिंद नाम के एक आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। वहींए एजेंसियों ने इस दावे की पुष्टि नहीं कर रही हैं। हमलावरों ने इजरायल दूतावास के बाहर आईईडी के जरिए धमाका किया था।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned