NCPCR ने 10 बच्चों की मौत पर लिया संज्ञान, 48 घंटे के अंदर डीएम से मांगी फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट

  • NCPCR ने इस घटना को बताया दुर्भाग्यपूर्ण।
  • डिप्टी सीएम ने सभी अस्पतालों के जांच के आदेश दिए।

 

 

 

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के भंडारा जिले में बीती रात आग की घटना में 10 नवजात बच्चों की मौत को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने गंभीरता से लिया है। एनसीपीसीआर ने इस घटना को लेकर भंडारा जिला कलेक्टर से सख्त कदम उठाने को कहा है। साथ ही जिला सामान्य अस्पताल में आग की घटना की जांच करने और 48 घंटे के भीतर एक तथ्यात्मक कार्रवाई रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है।

दोषियों के खिलाफ हुई कार्रवाई

इससे पहले महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम और वित्त मंत्री अजित पवार ने भंडारा ज़िला अस्पताल में आग लगने की घटना के बाद तत्काल आधार पर सभी अस्पतालों का ऑडिट करने का आदेश दिया। वहीं एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने भंडारा के अस्पताल में आग लगने से 10 बच्चों की मौत को काफी दुखद घटना बताया है। उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं। इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी अस्पतालों का फायर ऑडिट कराना ज़रूरी है। कोई अस्पताल मानकों का उल्लंघन करता है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि भंडारा जिले के समान्य अस्पताल में आग लगने की घटना में 10 बच्चों की जान चली गई।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned