निर्भया केसः मां ने सरकार से रखी मांग, फांसी के दिन को निर्भया दिवस के रूप में मनाया जाए

  • Nirbhaya Case मां ने दिया बड़ा बयान
  • सरकार से रखी अपनी मांग
  • बोलीं- आठ साल तक हर दिन सजा के जैसे बीता

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड ( Nirbhaya Gang rape case ) मामले में अब तक की सबसे बड़ी खबर सामने आ गई है। पटियाला हाउस कोर्ट ( Patiala House Court ) ने डेथ वारंट ( Death Warrant ) पर रोक लगाने वाली याचिका को खारिज कर दिया है। इतना नहीं सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) ने भी साफ कर दिया है कि दोषियों के बचाव के सभी विकल्प खत्म हो चुके हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि चारों दोषियों को 20 मार्च की सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दी जाएगी।

इस बीच निर्भया की मां ने बड़ा बयान दिया है। निर्भया की मां ने सरकार से मांग की है कि निर्भया के दोषियों के फांसी वाले दिन को निर्भया दिवस के रूप में मनाया जाए।

निर्भया के चारों दोषियों की फांसी हुई तय, बस चंद घंटों में मिलेगा इंसाफ

निर्भया गैंगरेप में आखिरकार आठ साल बाद बड़ा दिन नजदीक आ गया है। पटियाला हाउस कोर्ट के चौथे डेथ वारंट के मुताबिक निर्भया के चारों दोषियों को शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे फांसी के तख्ते पर लटका दिया जाएगा।

अपने आठ साल के संघर्ष को लेकर निर्भया की मां ने कहा है कि इतने लंबे समय में कानून की कई खामियों को करीब से देखा। लेकिन कानून पर हमें पूरा भरोसा था।

यही वजह थी कि हम लगातार न्याय के लिए लड़ते रहे।

निर्भया की मां ने कहा कि दोषियों को फांसी मिलने तक का हर दिन हमारे लिए किसी सजा से कम नहीं रहा।
रोजाना इन आंखों में उम्मीद जगती थी कि आज तो वो समय आ जाएगा जब निर्भया के दोषियों को उनके करनी की सजा मिलेगी।

Jaya Bachchan
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned