स्वास्थ्य मंत्रालय का खुलासा: देश में तेजी से बढ़ सकती है कोरोना मरीजों की संख्या, सरकार तैयार

  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश महामारी के मामले में तेजी से हो सकती है बढ़ोतरी
  • सरकार कोरोना वायरस (Coronavirus) मामलों के प्रबंधन के लिए पूरी तरह तैयार

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ( Health Ministry ) ने रविवार को कहा कि देश संक्रामक महामारी ( COVID-19 ) का सामना कर रहा है, इसके मामले में तेजी से बढ़ोतरी हो सकती है, लेकिन सरकार इसके साथ ही कोरोना वायरस ( Coronavirus ) मामलों के प्रबंधन के लिए पूरी तरह तैयार है।

संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ( Luv Agarwal, Joint Secretary, Health Department ) ने कहा कि यह एक महामारी है और संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो सकती है।

हमारा प्रयास तेजी से कदम उठाना है।

कोविड—19: अगर मौसमी बीमारी बना कोरोना वायरस तो क्या हर साल मचेगी तबाही?

उन्होंने कहा कि देश में कुल 8356 मामले सामने आए हैं। पिछले 24 घंटों में कम से कम 909 मामले सामने आए हैं और 34 लोगों की मौत हुई है।

अच्छी खबर यह है कि बीते 24 घंटें में कुल 74 लोग स्वस्थ हुए हैं और इस तरह से इस महामारी से कुल 716 लोग ठीक हो चुके हैं।

अब तक कुल 273 लोगों की जान चली गई। तैयारियों के बारे में, अग्रवाल ने कहा कि 29 मार्च को, हमारे पास 979 मामले सामने आए थे और इनमें से 20 प्रतिशत मामले क्रिटिकल थे और ऑक्सीजन की जरूरत थी।

उस समय 41,900 समर्पित बेड कुल 163 सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध थे।

चार अप्रैल को जब हमें 580 बेडों की आवश्यकता थी, हमारे पास 67,599 बेड थे। और नौ अप्रैल को, जब हमें 1100 बेडों की जरूरत थी तो हमारे पास देश में कुल 8,5000 बेड मौजूद थे।

लॉकडाउन बड़ा तो सरकार के सामने क्या होगी सबसे बड़ी चुनौती, जानें घरों तक कैसे पहुंचेगा सामान?

 

उन्होंने कहा कि कुल मामलों की संख्या में इजाफा हुआ है और हमारे पास कुल 8356 पॉजिटिव मामले हैं, और इनमें से बीस प्रतिशत मामलों में आईसीयू सपोर्ट की जरूरत है, जिसका मतलब है, आज 1671 रोगियों को ऑक्सीजन सपोर्ट और क्रिटिकल केयर ट्रीटमेंट की जरुरत है और हमारे पास 1,05,000 समर्पित बेड कुल 601 अस्पतालों में मौजूद है। यह आंकड़े दर्शाते हैं कि सरकार एडवांस में योजना बना रही है और पहले से तैयार है।

लॉकडाउन बढ़ा तो बढ़ेगी लोगों की आर्थिक तंगी, जरूरी सामान खरीदना भी रहेगा चुनौती

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned