'सरकार को अब कर्ज देने की नहीं खर्च करने की जरूरत', अर्थव्यवस्था पर मोदी सरकार को राहुल की नसीहत

  • अर्थव्यवस्था (Economy) को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार को दी नसीहत
  • जिस खतरे को लेकर कई महीने से मैं कर रहा था, उसे RBI ने भी माना- Rahul Gandhi

नई दिल्ली। पिछले कुछ समय से कोरोना वायरस (coronavirus), चीन विवाद और अर्थव्यवस्थ को लेकर कांग्रेस पार्टी लगातार मोदी सरकार पर निशाना साध रही है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की अगुवाई में पार्टी के नेता लगातार केन्द्र सरकार पर हमला बोल रहे हैं। इसी कड़ी में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार (MOdui Government) पर तंज कसा है। राहुल गांधी ने अर्थव्यवस्था को लेकर कहा कि जिस खतरे को लेकर मैं पिछले कई महीनों से बात रहा था, उसे अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने भी मान लिया है।

राहुल गांधी का मोदी सरकार को नसीहत

राहुल गांधी (Congress Leader Rahul Gandhi) ने एक ट्वीट करते हुए अर्थव्यवस्था पर मोदी सरकार को नसीहत दी है। राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'केनद्र सरकार को अब ज्यादा खर्च करने की जरूरत है, कर्ज देने की जरूरत नहीं '। उन्होंने आगे लिखा, 'उद्योगपतियों का टैक्स मत माफ किया जाए, गरीबों को पैसा दिया जाए, खफत से दोबारा अर्थव्यवस्था (Economy) को चालू कराया जाए'। राहुल गांधी ने अपने ट्वीट के साथ आरबीआई की एक रिपोर्ट भी शामिल की है। राहुल गांधी का कहना है कि जिस खतरे के लिए मैं पिछले कई महीनों से आगाह कर रहा था, उसे अब रिजर्व बैंक ने भी मान लिया है। राहुल के इस बयान से साफ स्पष्ट है कि मोदी सरकार अर्थव्यवस्था के मामले में फेल हो गई है, लिहाजा अब सतर्क होने की जरूरत है।

कोरोना संकट और लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था चरमराई

कांग्रेस नेता का यह भी कहना ह कि मीडिय के जरिए गरीबों को न भटकाया जाए, इससे उनकी मदद नहीं होगी। साथ ही आर्थिक समस्या भी खत्म नहीं होगी। यहां आपको बता दें कि rbi ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि देश में खफत को बड़ा झटका लगा है। गरीबों को काफी नुकसान पहुंचा है। अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को दोबारा पटरी पर लाने में काफी समय लगेगा। इतना ही नहीं रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सरकार ने कॉरपोरेट टैक्स में जो कटौती की है, उससे निवेश को बढ़ावा नहीं मिल रहा है। यहां आपको बता दें कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। सरकार ने अर्थव्यवस्था को मजबूत करन के लिए कई बजट भी जारी किए हैं। साथ ही उद्योगपतियों को कर्ज भी दिया जा रहा है।

Congress
Show More
Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned